Friday, December 9, 2016

कैशलेस बनने से हो सकते है ये 8 फायदे

कैशलेस से जीवन आसान होगा और विकास की गति में तेज़ी आएगी | नोटबंदी के बाद Cashless होने से देश की अर्थव्यवस्था में अधिक सुधर आएगा | कैशलेस से मतलब है की हर प्रकार का लेन-देन ऑनलाइन माध्यमो के द्वारा करना और बिना कैश के हर काम को आसानी से निपटाना | भारत के बहार कई देशो में कैशलेस अर्थव्यवस्था है, कैशलेस अर्थव्यवस्था में क्या है फायदे जाने
cash-less-india-fayade-hindi-me-note-ban

नकली नोटों का होगा ख़ात्मा
जैसा की हम सभी जानते है की बाजार में असली और नकली दोनों नोट का चलन रहता है जिसमे से नकली नोट को पहचानने में काफी समस्या रहती है ऐसे में जो अगर हम कैशलेस ट्रांसक्शन करेंगे तो इसमें बहुत ही बड़े फ्रॉड होने से बच सकेंगे और नकली नोट बनाने वालो के ऊपर लगाम लगा सकेंगे इसके जरिये आतंकवाद और अन्य अपराधों में कमी आती है और देश की अर्थव्यवस्था में सुधार आता है |

परिवहन में आ रहे खर्चे से निजात
डिजिटल भुगतान करने से नोट के कम से कम इस्तेमाल होंगे जिसकी वजह से बैंक में और एटीएम में नोट भरने की प्रक्रिया में रहत मिलेगी और परिवहन का खर्च बचेगा जो की पर्यावरण और देश की अर्थव्यवस्था दोनों के लिए आवश्यक है |

लेन-देन की प्रक्रिया में पारदर्शिता
जब हम सभी भुगतान कैशलेस होकर करेंगे तब लेन-देन की प्रक्रिया में ज्यादा पारदर्शिता होगी जिसकी मदद से सरकार को टैक्स वसूलने में ज्यादा आसानी होगी क्यूंकि लेन-देन की प्रक्रिया को डिजिटल माध्यम के जरिये ज्यादा आसानी से देखा जा सकता है |

दलालो या बिचौलियों का ख़ात्मा
भ्रष्टाचार में सबसे बड़ा हाँथ दलालो का ही होता है जो अगर सभी लेन-देन हम कैशलेस होकर करेंगे और सभी भुगतान डिजिटल होकर करेंगे तो दलालो के ऊपर रोक लगेगी और देश की अर्थव्यवस्था में अधिक सुधर आएगा |

पर्यावरण संरक्षण को ताक़त
जैसे की हम सभी जानते है नोट को बनाने में भरी मात्रा में पेड़ो की कटाई की जाती है जिससे पर्यावरण को काफी नुकसान होता है यदि हम अपनी जिंदगी में कैशलेस माध्यमो का उपयोग करे तो पर्यावरण सुरक्षित रहेगा |

लूटमार, चोरी और बैंक डकैती जैसे अपराधों से निजात
जो अगर हम कैशलेस माध्यमो का उपयोग करते है तो चोरी, लूटमार जैसी गतिविधियों से बच सकते है और कई प्रकार के अपराधों से निजात पा सकेंगे |

बैंकों के पास विकास के लिए अधिक पूंजी
कैशलेस होने से बैंक के पास ज्यादा पूंजी होगी जिसके माध्यम से प्राइवेट सेक्टर्स में ज्यादा निवेश होगा और विकास तेज़ गति से होगा |

ई-कॉमर्स को बढ़ावा
कैशलेस होने से सभी व्यक्ति Internet से जुड़ेंगे और ऑनलाइन ट्रांसक्शन्स करेंगे और E-commerce Sites से ही खरीदारी करेंगे जिस से E-commerce को बढ़ावा मिलेगा और सारी ट्रांसक्शन्स में पारदर्शिता होगी |