Monday, August 13, 2018

नहीं रहे सबके प्रिय सोमनाथ दा, पीएम मोदी और राहुल गांधी ने जताया शोक

नहीं रहे सबके प्रिय सोमनाथ दा, पीएम मोदी और राहुल गांधी ने जताया शोक

नई दिल्ली: देश के पूर्व लोकसभा स्पीकर और वरिष्ठ सीपीएम नेता सोमनाथ चटर्जी का आज सुबह दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। कोलकाता के अस्पताल में सोमनाथ चटर्जी को मंगलवार को भर्ती कराया गया था, जहां उनको दिल का दौरा पड़ा था। सोमनाथ चटर्जी 2004 से 2009 तक लोकसभा के स्पीकर रहे। सोमनाथ चटर्जी दस बार लोकसभा के सांसद भी रहे। 1971 में वह पहली बार वो सांसद चुने गए। इसके बाद उन्होंने राजनीति में कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।सोमनाथ चटर्जी का जन्म 25 जुलाई, 1929 को तेजपुर में हुआ था। उनके इस निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने शोक जताया है. पीएम मोदी ने ट्वीट करके पूर्व लोकसभा अध्‍यक्ष सोमनाथ चटर्जी को भारतीय राजनीति का पुरोधा बताया.Somnath chatterjee
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सोमनाथ चटर्जी ने हमारे संसदीय लोकतंत्र को मजबूत किया. साथ ही वह गरीबों और असहाय के बेहतरी की बुलंद आवाज थे. पीएम मोदी ने कहा कि सोमनाथ चटर्जी के निधन से दुख हुआ. उन्‍होंने कहा कि उनकी संवेदनाएं सोमनाथ चटर्जी के परिवार और समर्थकों के साथ हैं.

वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमनाथ चटर्जी के निधन पर दुख जताते हुए कहा कि चटर्जी अपने आप में एक संस्था थे जिनका सभी पार्टियों के लोग बहुत अधिक सम्मान करते थे. राहुल ने ट्वीट कर कहा, ‘मैं 10 बार सांसद रहे और लोकसभा के पूर्व अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी के निधन पर दुख प्रकट करता हूं. वह एक संस्था थे. सभी पार्टियों के सांसद उनका बहुत सम्मान और सराहना करते थे.’ उन्होंने कहा, ‘दुख की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं उनके परिवार के साथ है.’

इससे पहले 28 जून को तबीयत बिगड़ने पर कोलकाता के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बाद में उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया था। सोमनाथ चटर्जी का जन्म 25 जुलाई 1929 को बंगाली ब्राह्मण निर्मलचन्द्र चटर्जी और वीणापाणि देवी के घर में असम के तेजपुर में हुआ था। उनके पिता एक वकील और राष्ट्रवादी हिन्दू जागृति के समर्थक थे। उनके पिता अखिल भारतीय हिन्दू महासभा के संस्थापकों में से एक थे।

सोमनाथ चटर्जी ने सीपीएम के साथ राजनीतिक जीवन की शुरुआत 1968 में की और 2008 तक इस पार्टी से जुड़े रहे। 1971 में वह पहली बार सांसद चुने गए और इसके बाद सियासत में कभी पीछे मुड़कर नहीं देखे। सोमनाथ चटर्जी 10 बार लोकसभा सदस्य के रूप में चुने गए।

10 बार लोकसभा सदस्य के रूप में चुने गए

1971 में वह पहली बार सांसद बनें और 10 बार लोकसभा सदस्य के रूप में चुने गए थे। 4 जून 2004 को जब वे 14वीं लोकसभा के अध्यक्ष के रुप में चुने गए तो उनके नाम पर प्रस्ताव कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने रखा, जो सर्वसम्मति से स्वीकार कर लिया गया और श्री सोमनाथ चटर्जी निर्विरोध अध्यक्ष निर्वाचित कर लिए गए थे। उन्हें काफी विनोद प्रिय कहा जाता था।10 बार लोकसभा सदस्य के रूप में चुने गए

ब्रिटेन में लॉ की पढ़ाई की थी सोमनाथ दा ने

सोमनाथ चटर्जी ने ब्रिटेन में लॉ की पढ़ाई करने के बाद कलकत्ता हाइकोर्ट में प्रैक्टिस की थीऔर उसके बाद राजनीति में कदम रखा था। सोमनाथ चटर्जी ने सीपीएम के साथ राजनीतिक करियर की शुरुआत 1968 में की और 2008 तक इस पार्टी से जुड़े रहे।सोमनाथ चटर्जी का जन्म असम के तेजपुर में हुआ था

इस पोस्ट को अधिक से अधिक लोगो तक शेयर करे, और इस तरह के पोस्ट को पढने के लिए आप हमारी वेबसाइट विजिट करते रहे.

No comments:

Post a Comment