Sunday, September 16, 2018

अगर भारी वजन से हैं परेशान तो खाइये गोलगप्पे, जानिए कैसे पहुंचाएंगे आपको फायदा..?

अगर भारी वजन से हैं परेशान तो खाइये गोलगप्पे, जानिए कैसे पहुंचाएंगे आपको फायदा..?

 

गोलगप्पे नाम सुनते ही ज्यादातर लोगों के मुंह में पानी आ जाता है। मौका मिलते ही लोग गोलगप्पे के प्रति अपनी दीवानगी जाहिर करने लगते हैं। वैसे अक्सर इसे खाने वालों को सेहत के प्रति लापरवाह कहा जाता है।

अति तो हर चीज की खराब होती है, लेकिन एक सीमा तक गोलगप्पे आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं। अब अगर आपको कोई गोलगप्पे खाने पर सेहत के प्रति लापरवाह कहे तो उसे इसकी खासियत बताना कतई न भूलें।

सबसे पहली बात यह है कि आपका पसंदीदा गोलगप्पा कभी आपका हाजमा नहीं बिगड़ने देता है।
इसके स्वाद बढ़ाने वाले मसाले आपका हाजमा दुरुस्त करते हैं। अभी हमारी बात पर शायद आपको खुद भी यकीन न हो, लेकिन यह सच है।
पानीपुरी से बहुत सारी स्थिति में आपकी तबीयत ठीक रहती है।  गोलगप्पे का चटपटा पानी ऐसे मसालों से मिलकर बनता है जो एसिटिडी और पेट दर्द जैसी तमाम समस्याओं को खत्म कर देते हैं।

गोलगप्पे के इतने नाम आपने सुने हैं कभी..

गोलगप्पे या पानीपुरी को देश के अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग नामों से जाना जाता है।

इसे महाराष्ट्र में पानीपूरी, हरियाणा में बताशे, MP में पानी बताशे, UP में पड़ाके या गोलगप्पे, बिहार में फुल्की, पश्चिम बंगाल में पुचका, ओडीशा में गुपचुप और गुजरात में पकौड़ी कहते हैं।

क्या आप जानते हैं गोलगप्पे के 11 नामों को..?

गर्मी आने के साथ ही हर गली-नुक्कड़ पर गोलगप्पों के ठेलों पर भीड़ बढ़ने लगती है। गोल गप्पे का नाम सुनते ही हमारे मुंह में पानी आ जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि हर दुकान पर अलग-अलग टेस्ट वाले गोलगप्पों के नाम में भी इतनी ही वैराइटी है। भारत में ही लोग इसे अलग-अलग शहरों में कई नामों से पहचानते हैं।

ंःHistory in Today: आज है भारत के सबसे बड़े इंजीनियर का जन्मदिन,.. जिसकी शुरुआती पढ़ाई कला से हुई…..

आइए जानते हैं इनके अलग-अलग नामों के बारे में….

1. गोलगप्पा 

उत्तर भारत में हरियाणा को छोड़कर सभी जगह इसको गोलगप्पे नाम से जाना जाता है। उत्तर भारत के गोलगप्पों का टेस्ट काफी कुछ एक जैसा होता है और बाकी जगहों से अच्छा भी। यहां इसे मीठी चटनी के साथ खाते हैं और तीखे पानी में पुदीने, इमली के अलावा कई मसाले भी मिलाए जाते हैं। कई जगहों पर गोलगप्पे गोल न होकर लंबे होते हैं।

2. पानी पूरी

भारत और दुनिया में सबसे ज्यादा यह इसी नाम से फैमस है। और महाराष्ट्र, गुजरात, मध्य प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु और नेपाल के कुछ हिस्सों में इसे इसी नाम से जाना जाता है।

3. पुचका

पूर्वी भारत में पश्चिम बंगाल, असम, बिहार और झारखंड में इसे पुचका के नाम से जाना जाता है। टेस्ट और कॉन्टेंट की बात करें तो पुचके और पानी-पूरी में काफी अंतर होता है। ये साइज में बड़े और कलर में गाढ़े होते हैं और इनमें उबले आलू की फिलिंग होती है, चटनी मीठी के बजाए तीखी होती है।

4. पकौड़ी

अरे कन्फ्यूज न होइए। ये वो बारिशों वाले पकौड़े नहीं हैं, लेकिन गुजरात के कुछ हिस्सों में इसे पकौड़ी ही कहा जाता है। इसमें सेव और प्याज मिलाया जाता है और पानी को पुदीने और हरी मिर्च से तीखा बनाते हैं। पकौड़ी में स्टफिंग भी काफी ज्यादा होती है।

5. पानी के बताशे

हरियाणा के कुछ हिस्सों में इसे इसी नाम से जाना जाता है। मीठी चटनी और खट्टे पानी वाला इसका स्वाद गोलगप्पों जैसा ही होता है।

ंःराशिफलः आज इन राशियों पर होगी धनवर्षा, मिलेगी सुख समृद्धि……..

6. पताशी

यह कोई चीनी से बनने वाली मिठाई नहीं, बल्कि गोल गप्पों का ही एक और नाम है। राजस्थान और उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में इसे पताशी के नाम से जाना जाता है। लखनऊ में पांच अलग-अलग टेस्ट के पानी के साथ मिलने वाले पांच स्वाद के बताशे भी काफी फेमस हैं। इसका पानी सूखे आम से बनाया जाता है।

7. गुप-चुप

यह गोलगप्पों का काफी मजेदार नाम है।  उड़ीसा, दक्षिणी झारखंड, छत्तीसगढ़, हैदराबाद और तेलंगाना के कुछ हिस्सों में इसे इसी नाम से जाता है। इसके इस नाम के पीछे की वजह यह है, कि जब यह मुंह में फूटते हैं तो कुछ ऐसी ही आवाज आती है।

8. फुल्की

गुजरात में चपातियों को फुल्की कहा जाता है, लेकिन पूर्वी उत्तर प्रदेश और नेपाल के कुछ हिस्सों में गोल गप्पों को भी फुल्की कहा जाता है। इस नाम से इसे काफी कम लोग ही जानते हैं।

9. टिक्की

बाकी दुनिया के लिए टिक्की का मतलब आलू टिक्की से होता है, लेकिन मध्य प्रदेश के होशंगाबाद में गोलगप्पों को ही टिक्की कहा जाता है।

10. पड़ाका

यूपी के अलीगढ़ में गोलगप्पों को इस नाम से भी जाना जाता है।

ंःखु़शख़बरीः इंतजार ख़त्म शाओमी लाया 8 जीबी रैम और 20 मेगापिक्सल फ्रंट कैमरा के साथ नया स्मार्टफोन, इस पर जियो ने दिया बंम्पर अॉफर…

11. वॉटर बॉल्स

गोल गप्पों का यह सबसे फनी नाम है। शायद अंग्रेजी में इसके लिए कोई इससे सटीक शब्द नहीं मिला होगा, तभी लोगों ने पानी-पूरी को इस नाम से ट्रांसलेट कर दिया।

आइए जानते हैं गोलगप्पे खाने फायदे…

1. यह आपका वजन कम करता है जाने कैसे..?

हरदिल अज़ीज गोलगप्पे के पानी को अगर थोड़ी सावधानी के साथ बनाया जाए। तो यह बढ़ते वजन की समस्या खत्म कर सकता है। सबसे पहली बात यह कि इसमें मीठा बिलकुल न हो और पुदीना, हींग, नींबू व कच्चा आम मिलाया जाए।

पानी में टमाटर का भी उपयोग न करें तो बेहतर है। साथ ही गोलगप्पे को रवे की बजाए आटे से बनाना व कम तलना फायदेमंद रहेगा।

2. मुंह के छाले को ठीक करता है…

पुचके के पानी का तीखा और खट्टा स्वाद मुंह के छालों में राहत दिलाने का काम करता है। इसमें जलजीरा, पुदीना और इमली होती है। इनका तीखापन और खट्टापन पेट साफ करने के साथ छालों का पानी निकालकर उन्हें भी सूखा देता है।

ंःजानिए गूगल क्यों बंद करने जा रहा है जीमेल इनबॉक्स….?

3. एसिडिटी में लाभदायक..

कुछ लोगों को सफर के दौरान बंद माहौल में घुटन होती है। कभी-कभी मितली भी महसूस होती है। ऐसे में आटे से बने 3-4 गोलगप्पे खा लेने से तुरंत आराम मिलता है।

गर्मी के दिनों में बाहर घूमने से ज्यादा प्यास लगती है और थकावट भी महसूस होती है। ऐसी स्थिति में केवल पानी पीने के बजाए पहले कुछ गोलगप्पे खा लें। अगर आप गोलगप्पे खाने के बाद पानी पीते हैं तो आपको एकदम फ्रेश-फ्रेश फील होगा।

4 . गोलगप्पे को दोपहर में खाने से क्या फायदा है

दोपहर का समय गोलगप्पे खाने के लिए सबसे बेहतर होता है। शाम के समय पानी पताशे खाने से वजन बढ़ने की आशंका रहती है। साथ ही कसरत करने से पहले या बाद में गोलगप्पे खाना भी नुकसान करता है।

5. कौन से गोलगप्पे खाना है फायदेमंद.. 

रवे के या आटे के, गोलगप्पेवाले का आपसे पहला सवाल अक्सर यही होता है,  तो अगली बार जब वह आपसे यह सवाल पूछे, तो उसे आटे के गोलगप्पे खिलाने के लिए कहें। यह आपके वजन कम करने के टार्गेट को पूरा करने में मदद करेगा। साथ ही भरावन में छोले या मटर के बजाए मूंग या चने की दाल का प्रयोग ज्यादा फायदा पहुंचाएगा।

इस पोस्ट को अधिक से अधिक लोगो तक शेयर करे, और इस तरह के पोस्ट को पढने के लिए आप हमारी वेबसाइट विजिट करते रहे.

No comments:

Post a Comment