Friday, September 14, 2018

सैफी मस्जिद गए पीएम मोदी, जानें कौन है दाऊदी बोहरा समुदाय

बोहरा के बहाने शियाओं को साधने की कवायद, बोले-बोहरा समुदाय से मेरा रिश्ता पुराना

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को इंदौर में बोहरा समाज के प्रवचन में हिस्सा लेने पहुंचे. उनके साथ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सहित तमाम नेता मौजूद रहे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने समाजसेवा के क्षेत्र में बोहरा समाज के योगदान को लेकर खूब सराहना की. यह दूसरा मौका है, जब पीएम मोदी बोहरा मुसलमानों के कार्यक्रम में पहुंचे. इससे पहले जब वह गुजरात के मुख्यमंत्री थे, तब इस समाज के कार्यक्रम में पहुंचे थे. मुसलमानों के इस वर्ग का नरेंद्र मोदी से गहरा रिश्ता रहा है. कहा जाता है कि गुजरात में सीएम रहते मोदी को इस वर्ग का समर्थन हासिल था. दंगों के बाद इस तबके में नाराजगी उभरकर सामने आई थी. मगर बाद में दूर भी हो गई थी. 'आपका अपनापन मुझे आज यहां खींच लाया'आपको बता दे कि पीएम नरेंद्र मोदी बोहरा समुदाय के कार्यक्रम में पहुंचकर बड़ा दांव खेला है. मुहर्रम के महीने में इमाम हुसैन की शहादत में होने वाले मातम में शामिल हुए और कहा कि इमाम हुसैन अमन और इंसाफ के लिए शहीद हो गए. इसके जरिए माना जा रहा है कि शिया मुस्लिमों को अपने साथ जोड़ने की कवायद की है. इंदौर में दाऊदी बोहरा समुदाय के धर्मगुरु के प्रवचन का नौ दिवसीय कार्यक्रम बुधवार से शुरू हुआ है. समुदाय के दुनियाभर में बसे हजारों लोग इस धार्मिक कार्यक्रम के लिये खास तौर पर इंदौर पहुंचे हैं. दावे के मुताबिक करीब चार लाख लोख इंदौर पहुंचे हैं.pm narendra modi live update from indore saifee masjid | मस्जिद में मोदी: 'अशरा मुबारका' कार्यक्रम में बोले PM मोदी, देश के लिए कैसे जीना है बोहरा समुदाय से सीखना चाहिए

‘हम पूरे विश्व को एक परिवार मानने वाले’
बोहरा समुदाय के लोगों को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि इमाम हुसैन की ये सीख जितनी तब महत्वपूर्ण थी उससे अधिक आज की दुनिया के लिए ये अहम। उन्होंने कहा कि हम पूरे विश्व को एक परिवार मानने वाले, सबको साथ लेकर चलने की परंपरा को मानने वाले लोग हैं। हमारे समाज की, हमारी विरासत की, यही शक्ति है जो हमें दुनिया के दूसरे देशों से अलग करती है। हमें अपने अतीत पर गर्व है, वर्तमान पर विश्वास है और उज्जवल भविष्य का आत्मविश्वास है।

जानें कौन हैं बोहरा

बोहरा समाज आम मुस्लिमों से कुछ अलग होता है. इस समाज में काफी पढ़े-लिखे हैं. इनकी आबादी देश में महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, राजस्थान, कोलकाता, चेन्नई आदि स्थानों पर प्रमुख रूप से है. बताया जाता है कि बोहरा शिया और सुन्नी दोनों होते हैं. दाऊदी बोहरा शियाओं से समानता रखते हैं. वहीं सुन्नी बोहराहनफी इस्लामिक कानून को मानते हैं. देश में 20 लाख से ज्यादा बोहरा समुदाय की आबादी है. बोहरा समुदाय के लोग विदेशों में भी खूब रहते हैं.पाकिस्तान, यूएसए, दुबई, अरब, यमन, ईराक आदि देशों में भी आबादी फैली है. धर्मगुरु को सैय्यदना कहते हैं. सैय्यदना जो बनता है, उसी को बोहरा समाज अपनी आस्था का केंद्र मानता है. बोहरा समाज पर्यावरण के क्षेत्र में अच्छे काम ही नहीं बल्कि समाजसेवा के लिए भी जाना जाता है.यह काम ट्रस्ट के जरिए किया जाता है. महाराष्ट्र में बोहरा समाज की दावते हादिया नामक एक ट्रस्क की संपत्ति हजार करोड़ रुपये से अधिक बताई जाती है. गुजरात सहित कई राज्यों में बोहरा समाज की ट्रस्ट संचालित हैं.

 

0टिप्पणियां

बोहरा इमामों को मानते हैं. बोहरा गुजराती शब्द वहौराऊ यानी व्यापार का अपभ्रंश बताया जाता है. दाऊदी बोहराओं का मुख्यालय मुंबई में है. देश में कुल 20 लाख से ज्यादा बोहरा आबादी है, जिसमें 15 लाख दाऊदी बोहरा हैं. 21 वें और अंतिम इमाम तैयब अबुल कासिम के बाद 1132 से आध्यात्मिक गुरुओं की परंपरा शुरू हुई, जिन्हें दाई-अल-मुतलक कहते हैं. जब 52 वे दाई-अल-मुतलक सैयदना मोहम्मद बुरहानुद्दीन का निधन हुआ तो 2014 से बेटे सैयदना डॉ. मुफद्दुल सैफुद्दीन उत्तराधिकारी बने. सैफुद्दीन 53 वें दाई-अल-मुतलक हैं.

इस पोस्ट को अधिक से अधिक लोगो तक शेयर करे, और इस तरह के पोस्ट को पढने के लिए आप हमारी वेबसाइट विजिट करते रहे.

No comments:

Post a Comment