Sunday, September 16, 2018

हॉकी के बाद अब गोल्फ में करियर बनाएंगे सरदार सिंह

नई दिल्ली (15 सितंबर): भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान सरदार सिंह ने अंतरराष्ट्रीय हॉकी से भले ही संन्यास ले लिया हो लेकिन खेल से उनका प्यार अब भी बरकरार है। सरदार अब हॉकी स्टिक को छोड़कर गोल्फ क्लब की ओर मुड़ सकते हैं। पूर्व भारतीय कप्तान अपने खेल करियर को गोल्फ कोर्स की ओर मोड़ सकते हैं।

12 सितंबर को सरदार ने अंतरराष्ट्रीय  हॉकी से संन्यास लेने का फैसला किया। हालांकि उन्होंने घरेलू हॉकी खेलते रहने की इच्छा भी जाहिर की है। इसके साथ ही वह यूरोप में क्लब हॉकी भी खेलना चाहते हैं। वह विदेशों में खेलते रहने के दौरान गोल्फ भी सीखना चाहते हैं।
सरदार सिंह ने एक वेबसाइट से खास बातचीत में कहा, &#8216मैं क्लब हॉकी खेलना जारी रखूंगा और साथ ही गोल्फ के सबक भी सीखना चाहता हूं। यह सच है कि मैं गोल्फ में करियर बनाना चाहता हूं। आगे देखते हैं क्या होता है।&#8217
सरदार ने भारत के लिए 12 साल में 314 मैच खेले। 2008 में उन्हें 21 वर्ष 10 महीने की उम्र में भारत के सबसे युवा हॉकी कप्तान बने थे। उन्होंने 2014 में एशियन गेम्स में भारतीय टीम की अगुआई की थी।
अंतरराष्ट्रीय खेल से रिटायर होने के बाद कई खिलाड़ी गोल्फ की ओर मुड़ जाते हैं। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान कपिल देव ने भी प्रफेशनल गोल्फ खेला था। उन्होंने 2018 में एशिया पसिफिक सीनियर्स खेला था। इसके अलावा अजीत अगरकर ने बीएमआर वर्ल्ड कॉर्पोरेट गोल्फ चैंलेंज के इंडियन फाइनल में क्वॉलिफाइ किया था। सरदार सिंह के मामले में यह पहला मौका होगा कि एक हॉकी प्लेयर गोल्फ को करियर बनाने का इरादा किया हो। इस बारे में उन्होंने आगे कहा, &#8216मैं स्पॉन्सर्स के साथ बैठकर आगे इस पर चर्चा करूंगा।&#8217
अपने हॉकी करियर के बारे में उन्होंने कहा, &#8216मुझे अपने देश का प्रतिनिधित्व करने पर गर्व है। मैं खुशनसीब हूं कि मुझे 2014 के इंचियोन एशियन गेम्स में तिरंगा लहराने और राष्ट्रगान सुनने का मौका मिला।&#8217 &#8216अब वक्त आगे बढ़ने का है&#8217  

इस पोस्ट को अधिक से अधिक लोगो तक शेयर करे, और इस तरह के पोस्ट को पढने के लिए आप हमारी वेबसाइट विजिट करते रहे.

No comments:

Post a Comment