Saturday, September 15, 2018

History in Today: आज है भारत के सबसे बड़े इंजीनियर का जन्मदिन,.. जिसकी शुरुआती पढ़ाई कला से हुई…..

History in Today:

भारत के सबसे बड़े इंजीनियर माने जाने वाले एम. विश्वेश्वरैया का जन्मदिन आज ही है।  इसे भारत में इंजीनियर्स डे के तौर पर भी मनाया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि विश्वेश्वरैया ने शुरुआती पढ़ाई कला में की थी।

भारत में सिंचाई व्यवस्था का बुनियादी तंत्र और बाढ़ से बचने के तरीकों पर पहला काम विश्वेश्वरैया ने ही किया। उन्होंने पढ़ाई पूरी करने के बाद महाराष्ट्र में काम किया और बाद में उनकी सलाह से ही भारत के अलग – अलग हिस्सों में बांधों का निर्माण किया गया। कावेरी नदी के पास KRS बांध का निर्माण उन्होंने अपनी देख रेख में ही करवाया, जिसे आज प्रमुख बांधों में गिना जाता है। भारत की इंजीनियरिंग को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहुंचाने में उनका महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

ंःखु़शख़बरीः इंतजार ख़त्म शाओमी लाया 8 जीबी रैम और 20 मेगापिक्सल फ्रंट कैमरा के साथ नया स्मार्टफोन, इस पर जियो ने दिया बंम्पर अॉफर…

विश्वेश्वरैया के काम से प्रभावित होकर ब्रिटिश राजघराने ने उन्हें 1911 में सर की उपाधि से सम्मानित किया और भारत के आजाद होने पर उन्हें देश के सबसे बड़े सम्मान भारत रत्न से सन् 1955 में सम्मानित किया गया। विश्वैश्वरैया मैसूर के दीवान हुआ करते थे और उस क्षेत्र में वे काफी लोकप्रिय थे। शायद इसीलिए कन्नड़ के सबसे पुराने अखबार प्रजावनी के द्वारा हाल ही में किये गए एक सर्वे तहत वह कर्नाटक के सबसे लोकप्रिय शख्सियत हैं।

15 सितम्बर 1860 को कर्नाटक की राजधानी बैंगलोर के पास में जन्मे विश्वेश्वरैया का निजी जीवन भी विरोधाभास से जुड़ा था। उन्हें कर्नाटक से जुड़ा हुआ माना जाता है लेकिन वह मूल रूप से तेलुगु थे। और उनके पिता कर्नाटक आकर बस गए थे। उन्होंने सेंट्रल कॉलेज बैंगलोर से B.A यानि कला की पढ़ाई पूरी की और उसके बाद उस वक्त के मद्रास में पढ़ने चले गए। बाद में उन्होंने पुणे इंजीनियरिंग कॉलेज से सिविल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की।

मैसूर के आस-पास तेजी से औद्योगिक विकास उनकी देख रेख में ही हुआ। कर्नाटक का विशाल B.T.U यानि विश्वेश्वरैया टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी उन्हीं के नाम पर है। जिसके तहत 100 से ज्यादा कॉलेज चलते हैं।

 

देश और दुनिया से 15 सितंबर की महत्त्वपूर्ण घटनाएँः- 1812 – आज ही के दिन नेपोलियन के नेतृत्व में फ्रांसीसी सेना मास्को के क्रैमलिन पहुंची। 1894- आज ही के दिन प्योंगयांग की लड़ाई में जापान ने चीन को करारी मात दी। 1916 – आज ही के दिन प्रथम विश्व युद्ध में पहली बार सोम्मे की लड़ाई में टैंक का इस्तेमाल किया गया। 1922- आज ही के दिन स्मरना अग्निकांड हुआ। संभवतः तुर्की सेना द्वारा 13-15 सितंबर तक लगाए गए इस आग में स्मरना के अधिकांश हिस्से नष्ट हो गए थे। एक अनुमान के अनुसार इसमें एक लाख लोग मारे गए थे। 1931- आज ही के दिन गांधी-इरविन समझौता हुआ। 1948 – आज ही के दिन स्वतंत्र भारत का पहला ध्वजपोत आईएनएस दिल्ली बंबई(अब मुंबई) के बंदरगाह पर पहुंचा। 1951- आज ही के दिनकम्युनिस्ट चीन ने तिब्बत पर कब्जा कर लिया और दलाई लामा के मठ में अपने पुजारियों को भेजा। 1959 – आज ही के दिन भारत की राष्ट्रीय प्रसारण सेवा दूरदर्शन की शुरुआत हुई। 1959- आज ही के दिन रूसी नेता निकिता ख्रुश्चेव अमेरिका की यात्रा करने वाले सोवियत संघ के पहले नेता बने। 1971 – आज ही के दिन हरी-भरी और शांति पूर्ण दुनिया के निर्माण के लिए प्रतिबद्ध ग्रीन पीस की स्थापना की गई। 1981 – आज ही के दिन वानुअतु संयुक्त राष्ट्र संघ का सदस्य बना।

ंःजानिए गूगल क्यों बंद करने जा रहा है जीमेल इनबॉक्स….?

1982 – आज ही के दिन लेबनान के निर्वाचित राष्ट्रपति बशीर गेमायेल की पदासीन होने के पूर्व ही बम बिस्फोट में हत्या हुई। 2000 – आज ही के दिन सिडनी में 27वें ओलम्पिक खेलों का शुभारम्भ हुआ था। 2001 – आज ही के दिन अमेरिकी सीनेट ने राष्ट्रपति को अफ़ग़ानिस्तान पर सैनिक कार्यवाही की मंजूरी दी। 2002 – आज ही के दिन न्यूयार्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक के अवसर पर भारत, चीन एवं रूस के विदेश मंत्रियों की बैठक आयोजित, थाईलैंड के सट्टाहिम में श्रीलंका सरकार व लिट्टे के बीच सीधी वार्ता शुरू हुई थी। 2003 – आज ही के दिन सिंगापुर के मुद्दे पर विकासशील देशों के भड़क उठने से डब्ल्यूटीओ वार्ता विफल हो गई थी। 2004 – आज ही के दिन ब्रिटिश नागरिक गुरिंदर चड्ढा को ‘वूमैन आफ़ द ईयर’ सम्मान दिया गया था। 2008 – आज ही के दिन क्राम्पटन गीब्स ने अमेरिका की एमएसआई ग्रुप कंपनी का अधिग्रहण किया। 2009 – आज ही के दिन बंगलूर के मुंदिर शिवराजी ने सब जूनियर बिलियर्ड्स का ख़िताब जीता। आज ही के दिन पेनसुला फाउंडेशन के चेयरमैन सुब्रतो चटोपाध्याय 2009-10 के लिए ‘आडिट ब्यूरो ऑफ सर्कुलेशन’ के अध्यक्ष चुने गये। 2017- आज ही के दिन कासीनी अंतरिक्ष यान शनि के उपग्रह टाइटन से टकराया। आज के दिन हुए जन्म 1861 – आज ही के दिन इंजीनियर, वैज्ञानिक और निर्माता मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया का जन्म हुआ था। 1876 – आज ही के दिन भारतीय उपन्यासकार शरत चंद्र चट्टोपाध्याय का जन्म हुआ था। 1905 – आज ही के दिन भारत प्रसिद्ध हिन्दी साहित्यकार डॉ. रामकुमार वर्मा का जन्म हुआ था। 1909 – आज ही के दिन तमिलनाडु के प्रसिद्ध नेता और भूतपूर्व मुख्यमंत्री सी. एन. अन्नादुराई का जन्म हुआ था। 1915 – आज ही के दिन परमवीर चक्र सम्मानित भूतपूर्व भारतीय सैनिक लांस नायक करम सिंह का जन्म हुआ था।

ंःखुशखबरीः लगवाएं मुफ्त में सोलर पैनल और करें मोटी कमाई,. यह कंम्पनी दे रही है रोजगार का सुनहरा अवसर…..

1927 – आज ही के दिन प्रसिद्ध कवि एवं साहित्यकार सर्वेश्वर दयाल सक्सेना का जन्म हुआ था। 1946 – आज ही के दिन मुम्बई की झुग्गी – बस्तियों के लिए संघर्ष करने वाले व्यक्ति जॉकिन अर्पुथम का जन्म हुआ था। 1973 – आज ही के दिन एक फ़ारसी विद्वान् लेखक, वैज्ञानिक, धर्मज्ञ तथा विचारक अलबेरूनी का जन्म हुआ था। आज के दिन हुए निधन 2012 – आज ही के दिन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पाँचवें सरसंघचालक के एस सुदर्शन का निधन हुआ था। महत्वपूर्ण दिवस अभियन्ता दिवस संचायिका दिवस राष्ट्रीय हिन्दी दिवस (सप्ताह)

ंःराशिफल: जाने आज किस पर होने वाली है धन वर्षा, किस पर लक्ष्मी जी रहेंगी मेहरबान……

इस पोस्ट को अधिक से अधिक लोगो तक शेयर करे, और इस तरह के पोस्ट को पढने के लिए आप हमारी वेबसाइट विजिट करते रहे.

No comments:

Post a Comment