Saturday, October 13, 2018

मानवाधिकार की रक्षा हमारे संस्कृति का अहम हिस्सा – मोदी

नई दिल्ली 12 अक्टूबर।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि सतत विकास का लक्ष्‍य हासिल करने के सरकार के प्रयासों में राष्‍ट्रीय मानवाधिकार आयोग की भूमिका महत्‍वपूर्ण है।

श्री मोदी ने राष्‍ट्रीय मानवाधिकार आयोग की स्‍थापना की 25-वीं वर्षगांठ पर आज यहां  आयोजित समारोह को सम्‍बोधित करते हुए कहा कि सरकार लोगों को उनके अधिकार देकर उनका जीवन-स्‍तर सुधारने के लिए प्रतिबद्ध है।

उन्होने कहा कि मानवाधिकार की रक्षा हमारे संस्‍कृति का अहम हिस्‍सा है। हमारी पंरपराओं में हमेशा व्‍यक्‍ति के जीवन, क्षमता, समानता, उसकी गरिमा के प्रति सम्‍मान इसमें स्‍वीकृति मिली हुई है। अधिकारों को सुनिश्‍चित करने वाले एनएचआरसी जैसे अनेक संस्‍था, कमीशन और डिमिनल भी है।  हमारी व्‍यवस्‍था उन संस्‍थाओं की आभारी है जो हर देशवासी के अधिकार को संवरक्षित करने के लिए प्रतिबद्ध है।

श्री मोदी ने कहा कि आयुष्‍मान भारत, प्रधानमंत्री आवास योजना, स्‍वच्‍छ भारत अभियान, सौभाग्‍य योजना जैसी योजनाओं का उद्देश्‍य सबको गरिमामय जीवन जीने के साधन उपलब्‍ध कराना है।उन्होने कहा कि..हमारी सरकार सबका साथ सबका विकास इस मंत्र को सेवा का माध्‍यम मानती है। यह अपने आप में ही मानव अधिकारों की सुरक्षा की गारंटी की तरह काम कर रही है। बेटी बचाओं, बेटी पढ़ाओं  अभियान की वजह से हरियाणा, राजस्‍थान सब अनेक राज्‍यों में बेटियों की संख्‍या में भारी वृद्धि हुई है..।

प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार का उद्देश्‍य सबके लिए रोजगार, शिक्षा और स्‍वास्‍थ्‍य सुविधाएं मुहैया कराना है। उन्‍होंने कहा कि मुस्लिम महिलाओं के अधिकार सुनिश्चित करने के लिए तीन तलाक की प्रथा को समाप्‍त करने के लिए विधेयक लाया गया है।श्री मोदी ने आयुष्‍मान भारत योजना की सराहना करते हुए कहा कि यह योजना शुरू होने के बाद 15-20 दिन के भीतर ही 50 हजार से अधिक लोगों को इस योजना का लाभ मिला है।

श्री मोदी ने कहा कि राष्‍ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने कमज़ोर वर्गों की आवाज़ का काम किया है और राष्‍ट्र निर्माण में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाई है।श्री मोदी ने इस अवसर पर एक डाक टिकट और विशेष डाक लिफाफा भी जारी किया। उन्‍होंने एन एच आर सी वेबसाइट के नए संस्‍करण का शुभारंभ भी किया।

इस पोस्ट को अधिक से अधिक लोगो तक शेयर करे, और इस तरह के पोस्ट को पढने के लिए आप हमारी वेबसाइट विजिट करते रहे.

No comments:

Post a Comment