Wednesday, October 10, 2018

भौतिकी के नोबेल पुरस्कारों का ऐलान, अश्किन, मौरू और डोना स्ट्रिक्लैंड को मिला सम्मान

नई दिल्लीः भौतिकी के क्षेत्र में अमूल्य योगदान के लिए दिए जाने वाले नोबेल पुरस्कारों का ऐलान मंगलवार को कर दिया गया है। इस साल आर्थर अशकिन, गेरार्ड मोउरो और डोना स्ट्रिकलैंड को नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। नोबेल पुरस्कार की कमेटी ने मंगलवार को इसकी घोषणा की। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, लेजर भौतिकी के क्षेत्र में ग्राउंडब्रैकिंग आविष्कारों के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका के आर्थर अशकिन ने पुरस्कार का आधा जीता और बाकी आधा संयुक्त रूप से जेरार्ड मोउरो और डोना स्ट्रिकलैंड को देने का निर्णय लिया गया है।

गौरतलब है कि इससे पहले साल 2017 में भौतिकी के लिए अमेरिका के तीन वैज्ञानिकों को यह पुरस्कार दिया गया था। इनमें वैज्ञानिक बैरी बैरिश, किप थ्रोन और रेनर वेसिस शामिल थे। तीनों वैज्ञानिकों को लेजर इंर्टफेरोमीटर ग्रैविटेशनल-वेव ऑब्जर्वेटरी (लिगो) डिटेक्टर और गुरुत्वाकर्षण तरंगों के अध्ययन के लिए संयुक्त रूप से यह दिया गया था। बता दें कि साल 2016 का भौतिकी में नोबेल पुरस्कार तीन ब्रिटिश वैज्ञानिक को दिया गया था। इनमें डेविड थूल्स, डंकन हाल्डेन और माइकल कोस्टरलिट्ज शामिल थे।

जहां अर्थर आस्किन को यह अवॉर्ड लेजर फिजिक्स में बॉयोलॉजिकल सिस्टम में ऑप्टिकल ट्वीजर के आविष्कार और उसके प्रयोग के लिए दिया गया. वहीं गेरार्ड मौरू और डोना स्ट्रिक्लैंड को लेजर फिजिक्स में अल्ट्रा ऑप्टिकल पल्सेस के प्रयोग के लिए दिया गया है. इससे पहले सोमवार को अमेरिका के जेम्स पी एलिसन और जापान के तासुकु होंजो को चिकित्सा के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार दिए जाने का ऐलान हुआ. इन्हें यह सम्मान कैंसर के इलाज में इनकी खोज को लेकर दिया गया है.

जेम्स एलिसन ने एेसे प्रोटीन पर स्टडी की है, जो बीमारी की प्रतिरोधक क्षमता के लिए मुश्किलें खड़ी करता है. उन्हें इस रुकावट को हटाने की जरूरत महसूस हुई और एेसी थेरेपी बनाई, जिसमें प्रतिरोधक कोशिकाएं ट्यूमर पर हमला करती हैं. उनकी इस थेरेपी से कैंसर के मरीजों के इलाज में नई क्रांति पैदा हुई है. वहीं क्योटो यूनिवर्सिटी के तासुकू होंजो ने एेसे प्रोटीन का पता लगाया है, जो प्रतिरोधक कोशिकाओं के लिए मुश्किलें पैदा करता है. अब बुधवार को केमिस्ट्री के नोबेल और शुक्रवार को शांति के नोबेल पुरस्कार की घोषणा होगी. इसके बाद मंगलवार, 8 अक्टूबर को अर्थशास्त्र के नोबेल पुरस्कार की घोषणा होगी. इस बार साहित्य का नोबेल पुरस्कार किसी को नहीं दिया जाएगा. ऐसा 70 साल में पहली बार होगा.

इस पोस्ट को अधिक से अधिक लोगो तक शेयर करे, और इस तरह के पोस्ट को पढने के लिए आप हमारी वेबसाइट विजिट करते रहे.

No comments:

Post a Comment