Friday, October 12, 2018

क्या आप भी नहीं जानते C.V और Resume के बीच का अंतर और सही फार्मेट, तो पढ़ें…

 

 

आज बढ़ते बाजार के दौर में आप जब भी किसी नई जगह नौकरी के लिए आवेदन करते है तो जॉब मार्केट में सीवी या रेज्यूमे ही आपका चेहरा होते हैं। एम्प्लॉयर इसमें जो पढ़ते हैं उसी के आधार कैंडिडेट की इमेज बनाते हैं और कैंडिडेट को सिलेक्ट या रिजेक्ट करने की सोचते हैं। इसलिए इसे फर्स्ट इम्प्रेशन माना जा सकता है लेकिन अक्सर ऐसा देखा जाता है कि कैंडिडेट इसे सीरियसली नहीं लेते। बस जैसे-तैसे बनाकर इसे कंपनी में दे आते हैं।

भारत में है एक ऐसी जगह जहाँ होती है रावण की पूजा…

जॉब के लिए अप्लाई कर रहे लोगों में बहुत से ऐसे होते हैं जिन्हें यह भी नहीं पता होता कि बायोडाटा, सीवी और रेज्यूमे में से उन्हें किस जॉब के लिए क्या भेजना है। इसका एम्प्लॉयर पर अच्छा प्रभाव नहीं पड़ता। सीवी और रेज्यूमे का सही फॉर्मेट क्या होता है और क्यों, कैसे उसे लगातार अपडेट करते रहना चाहिए, यह भी जानना जरूरी होता है। यही सब वे टूल्स भी हैं जिनसे एम्प्लॉयर कैंडिडेट शॉर्टलिस्ट करता है। इन तरीकों को जानकर जॉब पाने के चांस बढ़ाए जा सकते हैं।

आइए जानते हैं C.V और Resume के बीच का अन्तर और उनका सही फार्मेट..

C.V सीवी का फुलफॉर्म होता है, करिकुलम वीटा। जिसका मतलब है कोर्स ऑफ लाइफ। इसमें कैंडिडेट को अपने एकैडमिक्स और प्रोफैशन के अभी तक के सफर को बताना होता है। सीवी में एम्प्लॉयर एकेडिमिक्स पर ज्यादा ध्यान देता है। इसमें ज्यादातर वही डीटेल्स भरी जाती हैं जो पूरी हो चुकी हैं। सीवी में करियर, ऑब्जेक्टिव, एजुकेशनल, अकैडमिक डीटेल, टेक्निकल स्किल्स, स्ट्रेंथ-वीकनेस, अकैडमिक ऑनर्स और अवॉर्ड शामिल होने चाहिए। यह ग्रैजुएट्स, करियर फील्ड बदलने वाले और अकैडमिक पोजिशंस में अप्लाई करने वाले लोगों के लिए उपयुक्त रहती है। किसके लिए उपयुक्त है CV सीवी ज्यादातर ऑफिसर लेवल या एक्सपीरियंस्ड जॉब के लिए उपयुक्त माना जाता है। इसमें अभी तक के अचीमेंट्स को बताया जाता है। किसी ऊंची पोस्ट पर विशेष जिम्मेदारी के लिए भी सीवी भेजना ही अच्छा होता है। सीवी का फॉर्मैट 2-3 पेजों तक का हो सकता है।

सबसे पहले भगवान श्रीराम ने की थी शारदीय नवरात्र पूजा, जाने कैसे…

Resume Resume एक फ्रेंच भाषा का शब्द है जिसका मतलब होता है ‘समरी’। यह कैंडिडेट को नौकरी देने के लिए बैकग्राउंड और स्किल की डीटेल का फॉर्मैट होता है। इसमें एकैडमिक्स के साथ एक्स्ट्रा करिकुलर ऐक्टिविटीज को शामिल किया जाता है। रेज्यूमे फॉर्मैट सीवी की तुलना में थोड़ा छोटा होता है और ज्यादातर इसमें ऐसी जानकारी शामिल होती हैं जो पूरी हो चुकी हों। रेज्यूमे एक से डेढ़ पेज का अच्छा माना जाता है। किसके लिए उपयुक्त है Resume रेज्यूमे लोअर लेवल और फ्रेशर्स के लिए अच्छा रहता है। इसमें कॉल सेंटर, क्लर्क समेत कई सबऑर्डिनेट जॉब्स शामिल रहती हैं। Bio-data बायोडेटा अब आउटडेटेड हो गए हैं। कुछ एक-दो प्रफेशन्स में ही बायोडेटा मंगाया जाता है। इनमें फैशन इंडस्ट्री और मॉडलिंग एजेंसीज शामिल हैं।

क्या आप भी नहीं जानते मांग में सिंदूर भरने का मतलब, तो पढिए यह ख़बर…

दरअसल इनमें बाकी चीजों के अलावा पर्सनल बैकग्राउंड और इंटरेस्ट जैसी चीजें भी शामिल होती हैं। इसके अलावा बायोडेटा अब शादी-ब्याह के लिए ही इस्तेमाल किए जाते हैं।

इस पोस्ट को अधिक से अधिक लोगो तक शेयर करे, और इस तरह के पोस्ट को पढने के लिए आप हमारी वेबसाइट विजिट करते रहे.

No comments:

Post a Comment