Friday, October 12, 2018

मंत्रिमंडल पर्यावरण सहयोग पर भारत और फिनलैंड के बीच MoC को मंजूरी दी

Aeolus: यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी ने दुनिया का पहला हवा-संवेदन उपग्रह लॉन्च किया

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने पर्यावरण सहयोग पर भारत और फिनलैंड के बीच सहयोग के ज्ञापन (MoC) को मंजूरी दे दी है। एमओसी इक्विटी, पारस्परिकता और पारस्परिक लाभ के आधार पर प्राकृतिक संसाधनों के पर्यावरण संरक्षण और प्रबंधन के क्षेत्र में दोनों देशों के बीच घनिष्ठ और दीर्घकालिक सहयोग की स्थापना और प्रचार को सक्षम करेगा। इसके लिए यह प्रत्येक देश में लागू कानूनों और कानूनी प्रावधानों को ध्यान में रखेगा। यह बेहतर पर्यावरण संरक्षण, बेहतर संरक्षण और जलवायु परिवर्तन और वन्यजीव संरक्षण और संरक्षण के बेहतर प्रबंधन के लिए उपयुक्त नवीनतम तकनीकों और सर्वोत्तम प्रथाओं को लाने की भी उम्मीद है।

  • समझौते लागू कानूनों और कानूनी प्रावधानों को ध्यान में रखते हुए इक्विटी, पारस्परिकता और पारस्परिक लाभ के आधार पर प्राकृतिक संसाधनों के पर्यावरण संरक्षण और प्रबंधन के क्षेत्र में दोनों देशों के बीच घनिष्ठ और दीर्घकालिक सहयोग की स्थापना और प्रचार को सक्षम बनाएगा। प्रत्येक देश में।
  • यह भी बेहतर पर्यावरण संरक्षण, बेहतर संरक्षण, और जलवायु परिवर्तन और वन्यजीव संरक्षण और संरक्षण के बेहतर प्रबंधन के लिए उपयुक्त नवीनतम तकनीकों और सर्वोत्तम प्रथाओं को लाने की उम्मीद है।
  • MOC के तहत सहयोग के प्रमुख क्षेत्रों में वायु और जल प्रदूषण की रोकथाम और शुद्धिकरण, प्रदूषित मिट्टी के उपचार, खतरनाक अपशिष्ट और अपशिष्ट ऊर्जा प्रौद्योगिकियों सहित अपशिष्ट प्रबंधन शामिल होगा।
  • इसमें परिपत्र अर्थव्यवस्था, जलवायु परिवर्तन, कम कार्बन समाधान, प्राकृतिक संसाधनों के टिकाऊ प्रबंधन, जंगल और समुद्री और तटीय संसाधनों के संरक्षण सहित प्रचार शामिल होंगे।

MoC के तहत सहयोग के क्षेत्र

  • जलवायु परिवर्तन।
  • समुद्री और तटीय संसाधनों का संरक्षण
  • अपशिष्ट प्रबंधन और अपशिष्ट से ऊर्जा प्रौद्योगिकियां।
  • पर्यावरण और वन निगरानी और डेटा प्रबंधन।
  • वायु और जल प्रदूषण रोकथाम और शुद्धिकरण, प्रदूषित मिट्टी के उपचार।
  • परिपत्र अर्थव्यवस्था का प्रचार, प्राकृतिक संसाधनों के सतत प्रबंधन और कम कार्बन समाधान।
  • संयुक्त रूप से किसी भी अन्य क्षेत्रों पर फैसला किया।

इस पोस्ट को अधिक से अधिक लोगो तक शेयर करे, और इस तरह के पोस्ट को पढने के लिए आप हमारी वेबसाइट विजिट करते रहे.

No comments:

Post a Comment