Monday, December 3, 2018

मोदीराज में ओबामा से मिलने वाले किसान को 750 किलो प्याज बेचने पर मिले महज 1064 रुपये, नाराज होकर सभी पैसे पीएम मोदी को भेजा

देश में किसानों की हालत दिन प्रतिदिन बद से बत्तर होते जा रही। भारत में पिछले 20 सालों में  3 लाख से ज्यादा किसानों ने आत्महत्या की है। वहीं सरकार ने 2015 के बाद कोई आधिकारिक आकड़ा नहीं बता है। अगर किसानों की आत्महत्या पर बात करे तो इसमें सबसे ज्यादा किसानों ने महाराष्ट्र में किया है। महाराष्ट्र में 23 हजार से ज्यादा किसानों ने साल 2009 से लेकर 2016 के बीच अपनी जान दी है। कारण एक ही है बैंक से लिए हुआ कर्ज नहीं चूका पाना।

 

लेकिन क्या अपने या हमने सोचने की कोशिश की है की आखिर किसान बैंकों का कर्ज क्यूँ नहीं चूका पाते। जवाब हमने मिलता है महाराष्ट्र के एक किसान से जिसने अपने 750 किलो प्याज़ को महज 1।40 रुपये प्रति किलो के हिसाब से बेचनी पड़ी। किसान ने इस बात से नाराज होकर सीधा सवाल और जिम्मेदार पीएम मोदी और उनकी नीतियों को बनाया है। किसान ने प्याज़ बेचने के बाद मिले पैसे को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भेज दिया।

आपको बता दें महाराष्ट्र के नासिक जिले के निफाड तहसील का है। संजय साठे नाम के एक किसान को अपने 750 किलो प्याज़ को सिर्फ 1064 रुपये में बेचने के लिए मजबूर होना पड़ा।

आपको याद दिलादे की ये वही संजय साठे है जिन्हें कृषि मंत्रालय ने साल 2010 में अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति बराक ओबामा से संवाद के लिए चुना था।

इस सीजन में साठे ने 750 किलो प्याज़ उपजाई और उसे बेचने निफाड थोक बाजार गए। वहां पहले तो साठे को 1 रुपये प्रति किलो की पेशकश की गई। काफी मोलभाव के 1।40 रूपये प्रति किलोग्राम का सौदा तय हुआ और साठे को 750 किलोग्राम प्याज़ महज 1064 रूपये में बेचनी पड़ी।

संजय साठे कहते हैं, ‘चार महीने के परिश्रम की मुझे ये कीमत मिली। मैंने 1064 रूपये प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) के आपोस्टा राहत कोष में दान कर दिये हैं। मुझे वह राशि मनी ऑर्डर से भेजने के लिए 54 रूपये अलग से खर्च करने पड़े’।

साठे कहते हैं कि ‘मैं किसी राजनीतिक पार्टी का प्रतिनिधित्व नहीं करता, लेकिन दिक्कतों के प्रति सरकार की उदासीनता से नाराज हूं’।

साथ ही ओबामा से मिलने पर उन्होंने कहा, ‘मुझे ऑल इंडिया रेडियो के जगहीय रेडियो स्टेशनों पर कृषि में अपने प्रयोगों के बारे में बात करने के लिए भी आमंत्रित किया गया था। इसलिए जब ओबामा भारत आए थे तो कृषि मंत्रालय ने मुझे मुंबई में सेंट जेवियर्स कॉलेज में एक स्टॉल स्थापित करने के लिए चुना। मैं कुछ मिनट के लिए उससे बात कर सका था।’

आप इस बार के चुनाव में किसे वोट देंगे &#8211 अभी वोट करें

इस पोस्ट को अधिक से अधिक लोगो तक शेयर करे, और इस तरह के पोस्ट को पढने के लिए आप हमारी वेबसाइट विजिट करते रहे.

No comments:

Post a Comment