Tuesday, March 12, 2019

फलों और सब्जियों से कम होता है डायलिसिस के मरीजों में मौत का खतरा

किडनी शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है, जो एक फिल्टर के तौर पर काम करती है, लेकिन जब यह फेल हो जाए तो फिर मरीज का डायलिसिस करना पड़ता है। ऐसे में डायलिसिस के मरीज को ऐसा खान-पान रखना पड़ता है, जिससे उसके शरीर में टॉक्सिन्स जमा न हों और उन्हें आर्टिफिशल तरीके से निकाल दिया जाए। हाल ही में एक स्टडी आई है जिसमें बताया गया की फलों और सब्जियों के ज्यादा सेवन से डायलिसिस के मरीजों में अकाल मृत्यु के रिस्क को कम किया जा सकता है।

जिन मरीजों की किडनी फेल होती है, उन्हें आमतौर पर ऐसे डाइट के सेवन से मना किया जाता है क्योंकि इससे उनके शरीर में पोटेशियम की अत्यधिक मात्रा इकट्ठा हो सकती है। हालांकि इस स्टडी में देखा गया कि फलों और सब्जियों के ज़्यादा सेवन से ह्रदय रोगों का खतरा कम होता है और मृत्यु दर भी घटती है।

अमेरिकन सोसाइटी ऑफ नेफ्रोलॉजी के क्लिनिकल जर्नल में प्रकाशित इस रिपोर्ट में सामने आया कि जिन मरीजों ने प्रति सप्ताह फलों और सब्जियों के कॉम्बिनेशन की 10 सर्विंग्स खाईं, उनमें किसी भी कारण से मृत्यु दर जोखिम 10 फीसदी कम था और गैर-हृदय संबंधी कारणों से होने वाली मौतों का जोखिम 12 फीसदी कम था। शरीर में पोटेशियम के लोड को कम करने के लिए डायलिसिस के मरीजों को अगर ज़्यादा फलों और सब्जियों के सेवन से रोका जाता है, तो इससे वह इनसे मिलने वाले पोषक तत्वों से वंचित रह जाते हैं। हालांकि, हेमोडायलिसिस के मरीजों के फलों और सब्जियों का खाया जाना बेहद ज़रूरी है ताकि उनकी आहार संबंधी अनुशंसा को पूरा किया जा सके।

Share this&#8230
Share on FacebookFacebookTweet about this on TwitterTwitter

No comments:

Post a Comment