Friday, November 22, 2019

कैबिनेट ने लेह में सोवा रिग्पा के राष्ट्रीय संस्थान की स्थापना को मंजूरी दी

कैबिनेट ने लेह में सोवा रिग्पा के राष्ट्रीय संस्थान की स्थापना को मंजूरी दी केंद्रीय मंत्रिमंडल ने लद्दाख के केंद्र शासित प्रदेश लेह में सोवा-रिग्पा (एनआईएसआर) के लिए राष्ट्रीय संस्थान की स्थापना को मंजूरी दे दी है। यह केंद्रीय आयुष मंत्रालय के तहत एक स्वायत्त राष्ट्रीय संस्थान होगा। यह प्रमुख राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय संस्थानों के सहयोग से पारंपरिक चिकित्सा की सोवा-रिग्पा प्रणाली में अंतःविषय शिक्षा और अनुसंधान कार्यक्रम शुरू करने और चिकित्सा की विभिन्न प्रणालियों के एकीकरण की सुविधा के लिए अनिवार्य है।

सोवा-रिग्पा (NISR) के राष्ट्रीय संस्थान के बारे में

यह देश में सोवा-रिग्पा के लिए सर्वोच्च संस्थान होगा। इसका उद्देश्य चिकित्सा और आधुनिक विज्ञान, उपकरण और प्रौद्योगिकी के सोवा-रिग्पा प्रणाली के पारंपरिक ज्ञान के बीच एक वैध और उपयोगी तालमेल लाना है।

कार्य

यह सोवा-रिग्पा के अंतःविषय अनुसंधान और शिक्षा को बढ़ावा देने में मदद करेगा। यह गुणवत्तापूर्ण शिक्षा, गुणवत्ता नियंत्रण और मानकीकरण, वैज्ञानिक सत्यापन और सोवा-रिग्पा उत्पादों के सुरक्षा मूल्यांकन, मानकीकृत सोवा-रिग्पा आधारित तृतीयक स्वास्थ्य वितरण की सुविधा प्रदान करेगा। यह आम जनता के लिए स्वास्थ्य देखभाल की सुविधा प्रदान करने में जैव-आणविक पश्चिमी चिकित्सा के साथ अपने पारंपरिक सिद्धांत और संभव सह-संबंध के ढांचे में सर्वोत्तम सोवा-रिग्पा उपचार की पहचान करेगा।

लाभ

यह भारतीय उप-महाद्वीप में दवा के सोवा-रिग्पा प्रणाली के पुनरुद्धार के लिए एक प्रोत्साहन प्रदान करेगा। यह भारत के सोवा-रिग्पा और अन्य देशों के छात्रों को भी अवसर प्रदान करेगा। यह मौजूदा केंद्रीय बौद्ध अध्ययन संस्थान, लेह, केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख और सोवा रिग्पा संस्थानों के बीच तालमेल स्थापित करेगा &#8211 सारनाथ, वाराणसी (यूपी) में केंद्रीय तिब्बती अध्ययन संस्थान &#8211 जो केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय के प्रशासनिक नियंत्रण में हैं।

सोवा-रिग्पा के बारे में

इसे आमतौर पर तिब्बती चिकित्सा पद्धति के रूप में जाना जाता है। इसे साइंस ऑफ हीलिंग के नाम से भी जाना जाता है। यह दुनिया की सबसे पुरानी, ​​जीवित और अच्छी तरह से प्रलेखित चिकित्सा परंपरा में से एक है। यह तिब्बत से उत्पन्न हुआ है और भारत, नेपाल, भूटान, चीन, मंगोलिया और रूस में लोकप्रिय है। भारत में, पारंपरिक चिकित्सा पद्धति अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम, दार्जिलिंग (पश्चिम बंगाल), धर्मशाला, लाहौल और स्पीति (हिमाचल प्रदेश) और लद्दाख (यूटी) में व्यापक रूप से प्रचलित है।

माना जाता है कि युथोग योंटेन गोनपो को सोवा रिग्पा का पिता माना जाता है। उन्होंने इस औषधि की मौलिक पाठ्य पुस्तक rGyud-bZhi (चार तंत्र) की रचना की थी। rGyud-bZhi आयुर्वेद, चीनी और यूनानी चिकित्सा से समृद्ध तिब्बत की स्वदेशी चिकित्सा पर आधारित है।

तो दोस्तों यहा इस पृष्ठ पर कैबिनेट ने लेह में सोवा रिग्पा के राष्ट्रीय संस्थान की स्थापना को मंजूरी दी के बारे में बताया गया है अगर ये आपको पसंद आया हो तो इस पोस्ट को अपने friends के साथ social media में share जरूर करे। ताकि वे इस बारे में जान सके। और नवीनतम अपडेट के लिए हमारे साथ बने रहे।

कैबिनेट ने लेह में सोवा रिग्पा के राष्ट्रीय संस्थान की स्थापना को मंजूरी दी Parinaam Dekho.

No comments:

Post a Comment