Monday, March 23, 2020

कोरोना से भी खतरनाक था ये वायरस, 100 में से 10 की जाती थी जान!

पूरी दुनिया इस समय कोरोना वायरस जूझ रही है। इस वायरस की चपेट में 3 लाख से ज्यादा लोग आ चुके हैं। साथ ही मरने वालों की संख्या 13000 के पार पहुंच चुकी है। लेकिन क्या आपको पता है इस वायरस से ज्यादा खतरनाक कुछ और भी था? अगर नहीं पता तो हम बता दे रहे। कोरोना से ज्यादा खतरनाक सार्स था जो इससे खातक था।

कोरोना इसलिए था घातक

सार्स के फैलने की दर सार्स-कोरोना वायरस-2 से अधिक थी और यह इससे कहीं ज्यादा घातक था। इसका फैटेलिटी रेट 10 प्रतिशत था। यानी जितने लोगों को सार्स नामक बीमारी हुई, उसके 10 प्रतिशत लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। जबकि सार्स-कोरोना वायरस-2 के केस में यह मात्रा 3.4 प्रतिशत है।

सार्स और कोरोना का रिश्ता

कुछ सायंटिस्ट्स का कहना है कि सार्स-कोरोना वायरस-2 का जीनोम (Genome)करीब 82 प्रतिशत तक SARS से मैच करता है। यानी सार्स-कोरोना वायरस-2 पहले फैल चुके सार्स वायरस से 80 प्रतिशत से अधिक मेल खाता है। आप अपनी सुगमता के लिए जीनोम को डीएनए की तरह समझ सकते हैं।

तेजी से फ़ैला था सार्स

सार्स-कोरोना वायरस-2 का R0 (इसे R-naught पढ़ा जाता है) 2.2 है। यानी इस वायरस से ग्रसित एक व्यक्ति दो से अधिक लोगों को इंफेक्शन दे सकता है। जबकि सार्स जब फैला था, उस समय एक व्यक्ति करीब 3 लोगों को इंफेक्शन दे रहा था जो काफ़ी खतरनाक था।

:

Corona Virus: क्वारंटाइन से भागने वालों पर होगी कार्रवाई, लगातार आकड़ों में हो रहा इजाफा

Corona Virus: Lucknow: लखनऊ, नोएडा सहित तीन शहर होंगे सेनेटाइज

Corona Virus: Lucknow: लखनऊ, नोएडा सहित तीन शहर होंगे सेनेटाइज

स्पष्ट आवाज़ पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटरपर फॉलो करें। साथ ही फोन पर खबरे पढ़ने व देखने के लिए Play Store पर हमारा एप्प Spasht Awaz डाउनलोड करें।

Risabh SinghRishabh Singh

shivamsinghrishabh@gmail.com

कोरोना से भी खतरनाक था ये वायरस, 100 में से 10 की जाती थी जान! Spasht Awaz.

No comments:

Post a Comment