Saturday, March 7, 2020

सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज: 7 वर्ष बाद वानखेड़े मैदान में आमने-सामने होंगे मास्टर ब्लास्टर सचिन और लारा

मुंबई  । मुंबई वानखेड़े स्टेडियम वैसे तो कई बड़े मुकाबलों का गवाह बना है,लेकिन आज शाम इस स्टेडियम में एक ऐतिहासिक मुकाबला खेला जायेगा। अनअकेडमी रोड सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज के पहले मैच में सचिन तेंदुलकर की इंडिया लिजेंड्स का सामना ब्रायन लारा की विंडीज लिजेंड्स से होगा।

सचिन के लिए यह बेहद भावुक पल होगा क्योंकि 14 नवंबर, 2013 के बाद से सचिन पहली बार वानखड़े स्टेडियम में खेलेंगे। इस मैच का और ज्यादा महत्व इसलिए है क्योंकि यह रोड सेफ्टी के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए खेला जा रहा है।

भारत में सड़क दुर्घटना में हर चार मिनट में एक इंसान की जान जाती है। दिलचस्प बात यह है कि सचिन के करियर का आखिरी मैच उसी टीम के खिलाफ था जिस टीम के खिलाफ वह शनिवार को मैदान पर उतरेंगे। सचिन ने अपना करियर का आखिरी मैच इसी मैदान पर विंडीज के खिलाफ खेला था।

इस मैच को सचिन बनाम लारा के तौर पर देखा जा रहा और प्रशंसक सचिन को एक बार फिर मैदान पर उनके पसंदीदा शॉट कवर ड्राइव को और एक बार फिर ‘सचिन, सचिन, सचिन’ के नारे लगाने को लेकर उत्सुक हैं। भारतीय टीम ने शुक्रवार को सीसीआई में कड़ा अभ्यास किया। सभी खिलाड़ी एक बार फिर मैदान पर वही कर रहे थे जो वो अपने जीवन भर करते आए थे।

भारत की विश्व कप-2011 जीत के हीरो युवराज सिंह ने कहा, ‘‘शरीर थका हुआ लेकिन हमारे पास जो बचा है हम उसके साथ पूरी कोशिश करेंगे। विश्व कप जीतने वाली भारतीय टीम के कई सदस्य यहां हैं। एक बार फिर मैदान पर उन्हीं सब लोगों के साथ वापसी कर अच्छा लग रहा है। मजा आएगा लेकिन साथ ही हम सीरियस क्रिकेट खेलने को लेकर भी तैयार हैं, क्योंकि यह एक अच्छे कारण के लिए होने जा रही है। सचिन कड़ी मेहनत कर रहे हैं।

हमारी गेंदबाजी अच्छी है लेकिन फिल्डिंग चिंता की बात है।’’ युवराज ने आगे कहा, ‘‘रोड सेफ्टी बहुत अहम संदेश है जो हम इस टूर्नामेंट के माध्यम से देना चाहते हैं। मैं इस बात को लेकर आश्वस्त हूं कि यह संदेश प्रत्येक इंसान के पास पहुंचेगा और लोग इस पर ध्यान देंगे, जिस पर वो अधिकतर ध्यान नहीं देते। हम आॅफिस, परिवार और बाकी चीजों के बारे में सोच रहे हैं।’’ पांच राष्ट्रों के इस टूर्नामेंट में लारा विंडीज टीम की कप्तानी कर रहे हैं।

शुक्रवार को हालांकि वेस्टइंडीज के पूर्व कप्तान कार्ल हूपर ने अभ्यास सत्र का नेतृत्व किया। हाल ही में आस्ट्रेलिया में बुश फायर चैरिटी मैच में खेलने वाले लारा ने ज्यादा बल्लेबाजी नहीं की लेकिन वह फील्डिंग पर ध्यान दे रहे थे। शिवनारायण चंद्रपॉल ने लंबा बल्लेबाजी अभ्यास किया। हूपर भी इस बात पर राजी हुए कि उम्र निश्चित तौर पर असर दिखा रही है, लेकिन मैदान पर प्रतिस्पर्धा अच्छी होगी। उन्होंने कहा, ‘‘जब आप क्रिकेट खेलते हो तो मजा आता है। शरीर अब काभी बूढ़ा हो चुका है, हालांकि प्रतिस्पर्धा बाहर निकल कर आएगी। यह अच्छ मैच होगा।’’

No comments:

Post a Comment