Sunday, April 26, 2020

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल द्वारा COVID-19 कचरे का वैज्ञानिक निपटान

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल द्वारा COVID-19 कचरे का वैज्ञानिक निपटान नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को COVID-19 कचरे के परिवहन, हैंडलिंग, भंडारण और निपटान की बारीकी से निगरानी करने का निर्देश दिया है।

हाइलाइट

जैव चिकित्सा अपशिष्ट नियम संक्रामक रोगों से उत्पन्न कचरे से निपटते हैं। हालांकि, गोवि द्वारा COVID-19 कचरे के अपशिष्ट को संभालने के लिए विशेष अपशिष्ट प्रबंधन नियम जारी किए गए हैं।

महत्व

बायोमेडिकल कचरे के अनुचित हैंडलिंग से लोगों और पर्यावरण के स्वास्थ्य के लिए गंभीर खतरा पैदा होगा। COVID-19 के कचरे को संभालने का अवैज्ञानिक तरीका खतरनाक हो सकता है।

अधिकरण द्वारा दिशानिर्देश

ट्रिब्यूनल ने निर्देश दिया था कि उच्च स्तरीय टीम जैसे सीपीसीबी, जल शक्ति, रक्षा, शहरी विकास सीओवीआईडी ​​-19 के वैज्ञानिक निपटान का पर्यवेक्षण करते हैं। साथ ही, राज्य सरकारों और संघ शासित प्रदेशों को बायोमेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट रूल्स, 2016 का पालन करने के लिए निर्देशित किया गया था। सीपीसीबी को एनजीटी को एक समेकित रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए निर्देशित किया गया था।

NGT के सुझाव

NGT द्वारा निम्नलिखित सुझाव दिए गए थे

  • NGT ने ऑनलाइन प्रारूप में डेटा संकलित करने का सुझाव दिया है
  • NGT के अनुसार, COVID-19 कचरे के खतरनाक प्रभावों के बारे में अपशिष्ट संचालकों, श्रमिकों और नागरिकों के बीच जागरूकता पैदा करने की आवश्यकता है।
  • CPCB ने COVID-19 रोगियों के निदान और उपचार के दौरान कचरे के निपटान के प्रबंधन पर दिशानिर्देश जारी किए थे।

तो दोस्तों यहा इस पृष्ठ पर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल द्वारा COVID-19 कचरे का वैज्ञानिक निपटान के बारे में बताया गया है अगर ये आपको पसंद आया हो तो इस पोस्ट को अपने friends के साथ social media में share जरूर करे। ताकि वे इस बारे में जान सके। और नवीनतम अपडेट के लिए हमारे साथ बने रहे।

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल द्वारा COVID-19 कचरे का वैज्ञानिक निपटान Parinaam Dekho.

No comments:

Post a Comment