Friday, December 7, 2018

राजस्थान में बंपर वोटिंग; 5 बजे तक 72.7% वोटिंग, कांग्रेस बना सकती है सरकार

नई दिल्ली। राजजगह में विधानसभा की 199 सीटों के लिए वोटिंग संपन्न हो गई है। वोटिंग प्रक्रिया सुबह 8 बजे से शुरू हुई जो 5 बजे तक चली। राजजगह में शाम 5 बजे तक 72.7 फीसदी मतदान हुआ। राजजगह में इस बार के विधानसभा चुनाव में मुख्य मुकाबला सत्ताधारी बीजेपी और विपक्षी पार्टी कांग्रेस के बीच है। दोबारा सत्ता में वापसी के लिए जहां बीजेपी के रणनीतिकारों ने पूरी ताकत झोंक दी, खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जमकर चुनाव प्रचार किया। दूसरी ओर कांग्रेस ने सत्ता विरोधी लहर को अपने पक्ष में भुनाने के लिए इस बार काफी आक्रामक चुनावी अभियान चलाया। चुनाव के नतीजे 11 दिसंबर को आएंगे।

राजजगह में विधानसभा चुनाव के मतदान के बाद आए टाइम्स नाउ-सीएनएक्स के एग्जिट पोल में इस बार कांग्रेस पार्टी की सरकार बनते हुए दिख रही है। इसके अलावा अन्य सर्वे में भी कांग्रेस को राजजगह में बहुमत मिलता दिख रहा है।राजजगह विधानसभा में 200 सीटे हैं। यहां सरकार बनाने के लिए 101 सीटों की दरकार होती है। हर बार की तरह इस बार भी चुनाव में मुख्य मुकाबला भाजपा और कांग्रेस के बीच रहा। 1993 से अब तक हुए हुए पांच विधानसभा चुनावों में इन दोनों पार्टियों के बीच सत्ता की अदला-बदली होती रही है। यानि 20 साल से कोई भी पार्टी लगातार दूसरी बार सत्ता में नहीं वापसी नहीं कर पाई। राजजगह चुनाव के लिए टाइम्स नाउ-सीएनएक्स के एग्जिट पोल में इस बार कांग्रेस पार्टी को कुल 105 के आसपास सीट मिलने की उम्मीद जताई जा रही है। वहीं सत्तारुढ़ बीजेपी को इन चुनावों में 85 सीट मिलने के कयास लगाए जा रहे हैं। साथ-साथ सर्वे में अन्य के खाते में 9 सीट जाती दिख रही है। एक्सिस-माई इंडिया के सर्वे में कांग्रेस को राजजगह में 119-141 सीट मिलती दिख रही है, वहीं बीजेपी का आंकड़ा 55-72 सीटों के बीच सिमटता नजर आ रहा है।

1952 से अब तक राजजगह विधानसभा के 14 चुनाव हो चुके हैं। 9 बार कांग्रेस की सरकारें बनी तो 4 बार भाजपा सत्ता में रही। एक बार जनता पार्टी की सरकार रही थी। 1972 तक प्रदेश की राजनीति में कांग्रेस का एकतरफा दबदबा रहा। 1977 में पहला मौका आया जब कांग्रेस सत्ता से बेदखल हुई। तब जनता पार्टी ने 200 में से 151 सीटें जीत कर सरकार बनाई और भैरोंसिंह शेखावत पहले गैर-कांग्रेसी मुख्यमंत्री बने थे। हालांकि अगले दो चुनावों (1980 और 1985) में फिर कांग्रेस सत्ता में रही। 1980 से चुनाव मैदान में उतरी भाजपा को पहली कामयाबी 1990 में मिली। तब पार्टी को 85 सीटें मिली थीं। शेखावत फिर सीएम बने।

1993 में प्रदेश की दसवीं विधानसभा के लिए चुनाव हुए और 95 सीटों के साथ भाजपा फिर सत्ता में लौटी। राजजगह के इतिहास में यह पहला और एक मात्र मौका रहा जब भाजपा लगातार दो बार सत्ता में रही। इसके बाद से भाजपा और कांग्रेस के बीच सत्ता की अदला-बदली चल रही है। 1998 में कांग्रेस ने धमाकेदार प्रदर्शन किया और 200 में से 153 सीटों जीत दर्ज की। यह पहला मौका था, जब कांग्रेस ने 150+ सीटें हासिल की। अशोक गहलोत सीएम बने।

2003 विधानसभा चुनाव में गहलोत दूसरी पारी नहीं खेल पाए और उनके नेतृत्व में लड़े गए चुनाव में कांग्रेस बुरी तरह हार गई। 120 सीटें जीतकर भाजपा सत्ता में लौटी, वसुंधरा राजे सीएम बनीं। 2008 में वसुंधरा भी लगातार दूसरी पारी नहीं खेल पाईं। 96 सीटें पाकर कांग्रेस सत्ता में लौटी, गहलोत फिर सीएम बने। 2013 में अदला-बदली का क्रम जारी रहा और भाजपा ने राजजगह विधानसभा के इतिहास में अपनी सबसे बड़ी जीत दर्ज की। 163 सीटों के साथ वसुंधरा राजे फिर सीएम बनीं।

चुनाव में मुख्य मुकाबला कांग्रेस-बीजेपी के बीच
बता दें कि राजजगह के इन विधानसभा चुनावों में मुख्य मुकाबला सत्तारुढ़ बीजेपी और कांग्रेस पार्टी के बीच है। खास बात यह कि इन चुनाव में गभग 50 सीटों पर दोनों प्रमुख दलों के विद्रोही प्रत्याशी मैदान में हैं, जो दोनों दलों के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं। राज्य में 830 निर्दलीय प्रत्याशी भी अपना भाग्य आजमा रहे हैं। बीजेपी राज्य की सभी सीटों पर चुनाव लड़ रही है जबकि कांग्रेस ने अपने सहयोगियों के लिए पांच सीटें छोड़ी हैं। बीएसपी ने 190 प्रत्याशी, सीपीआई (एम) ने 28 और सीपीआई ने अपने 16 प्रत्याशी खड़े किए हैं। 

फिलहाल बीजेपी के पास 160 सीट

वर्तमान में राज्य विधानसभा में बीजेपी के पास 160 सीटें हैं, वहीं कांग्रेस के 25 विधायकों के साथ अब तक प्रमुख विपक्षी पार्टी के रूप में काम कर रही है। एग्जिट पोल के नतीजे भले ही कांग्रेस पार्टी के नेताओं के लिए सुखद हैं लेकिन यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या 20 साल पुरानी परंपरा टूटेगी या इतिहास एक बार फिर अपने आप को दोहराएगा? क्या मेवाड़ का किला फतह करने वाली पार्टी ही फिर सत्ता की सीढ़ी पर चढ़ेगी।

आप इस बार के चुनाव में किसे वोट देंगे &#8211 अभी वोट करें

इस पोस्ट को अधिक से अधिक लोगो तक शेयर करे, और इस तरह के पोस्ट को पढने के लिए आप हमारी वेबसाइट विजिट करते रहे.

No comments:

Post a Comment