Friday, December 7, 2018

आखिर क्यों विरोट को इस क्रिकेटर ने मारा जोरदार थप्‍पड़

Image result for विराट

भारत में एकमात्र क्रिकेट ही ऐसा खेल है जिसे लोग बहुत ज्‍यादा पसंद और प्‍यार करते हैं और विराट कोहली ऐसे खिलाड़ी हैं जो हर क्रिकेट प्रेमी की पहली पसंद हैं।

अगर आप भी विराट कोहली या क्रिकेट के फैन हैं तो अब आपके लिए एक खुशखबरी है। दरअसल, विराट कोहली के ऊपर एक किताब लिखी जा रही है जिसका नाम है ‘ड्रिवेन : द विराट कोहलीस्‍टोरी’।

इस सीनियर खेल पत्रकार विजय लोकापल्‍ली ने लिखा है और ब्‍लूम्‍सबरी इंडिया ने प्रकाशित किया है।

इस किताब में लिखे गए विराट की जिंदगी के कुछ हिस्‍सों के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं :

विराट के टीचर राजकुमार

विराट के टीचर राजकुमार है और वो विराट को तब से जानते हैं जब वो दस साल के थे। इस किताब में उन्‍होंने खुलासा किया कि विराट को अपने से ज्‍यादा उम्र के खिलाडियों के साथ खेलने का शौक था। वो कहते थे कि उनकी उम्र के खिलाड़ी उन्‍हें आउट नहीं कर पाते हैं। वे बताते हैं कि विराट को उनकी सीट पर बैठाए रखना मुश्किल काम हुआ करता था।

सामने वाली टीम अगर कम स्‍कोर पर आउट होती तो वो पहले बैटिंग के लिए जाना चाहते थे। बड़ी मासूमियत के साथ वो अपने कोच से कहते थे कि उन्‍हें बैटिंग नहीं मिली तो उनका क्‍या होगा। हमेशा से विराट 4 नंबर पर बैटिंग करने उतरते थे लेकिन कभी भी उनसे ओपनिंग करवा सकते थे। आउट होने के बाद भी वो अपने पैड नहीं उतारते थे।

पड़ते थे थप्‍पड़

विराट के टीचर राजकुमार ने बताया कि जब विराट गलती किया करते थे तो वो बिलकुल भी नरमी नहीं बरतते थे। वो कहते हैं कि मैं बस उसे डांटता नहीं था कि बल्कि कई बार झन्‍नाटेदार थप्‍पड़ भी लगाए हैं और उस पर इसका ही असर होता है। राजकुमार सर बताते हैं कि विराट हमेशा से ही बहुत इमोशनल रहे हैं और इतना कामयाब होने के बाद भी उन्‍होंने कभी अपने पुराने दिनों और लोगों को अपने से दूर नहीं किया है।

विराट के टीचर राजकुमार

कवर ड्राइव है ताकत

विराट की कवर ड्राइव को विराट के टीचर राजकुमार उनकी सबसे बड़ी ताकत मानते हैं। विराट को खुद कवर ड्राइव बहुत पसंद है और इस शॉट को खेलने के चक्‍कर में वो विकेट खो देते थे। जब उन्‍हें इसके लिए मना किया तो उन्‍हें छक्‍के लगाने की सनक हो गई। इस बात को लेकर मैंने विराट को बहुत डांटा और उसे कहा कि अब जब तक तू फिफ्टी नहीं लगा लेता तब तक तू छक्‍का लगाने की कोशिश नहीं करेगा। वो विराट को स्‍वीप और कट लगाने के लिए भी मना किया करते थे। वो बताते हैं कि उन्‍होंने जानबूझकर स्‍वीप और कट लगाना नहीं सिखाया। ये बहुत रिस्‍की शॉट्स थे और वो विराट को बॉल को करीब से खेलते हुए देखना चाहते थे।

विराट के टीचर राजकुमार – तो दोस्‍तों, इस तरह थे विराट और उनके सर का रिश्‍ता। विराट भी अपनी इस कामयाबी का श्रेय अपने कोच को देते हैं। कुछ समय पहले सोशल मीडिया पर टीचर्स डे के मौके पर विराट ने उन्‍हें थैंक्‍स भी किया था। कुछ ऐसे हैं इंडियन टीम के विराट कोहली।

No comments:

Post a Comment