Monday, January 14, 2019

कोरेगांव भीमा हिंसा में पुलिस की एफआईआर को रद्द करने से सुको का इंकार

नई दिल्ली 14 जनवरी। उच्‍चतम न्‍यायालय ने नागरिक अधिकार कार्यकर्ता आनंद तेलतुम्‍बड़े की एलगार परिषद् की कोरेगांव भीमा हिंसा में कथित भूमिका और माओवादियों के साथ उनके कथित संपर्क के बारे में पुणे पुलिस की एफआईआर को रद्द करने से इंकार कर दिया है।

उच्‍चतम न्‍यायालय ने इस मामले में चल रही जांच में हस्‍तक्षेप करने से भी मना कर दिया है,लेकिन आनंद तेलतुम्‍बड़े को बंबई उच्‍च न्‍यायालय द्वारा गिरफ्तारी से दी गई अंतरिम राहत की अवधि चार सप्‍ताह के लिए बढ़ा दी है।न्‍यायालय ने कहा कि इस अवधि के भीतर तेलतुम्‍बड़े सक्षम अदालत से नियमित जमानत देने का अनुरोध कर सकते हैं।

तेलतुम्‍बड़े ने 21 दिसंबर को एफआईआर को रद्द करने के लिए जो याचिका दायर की थी उसे बंबई उच्‍च न्‍यायालय ने खारिज कर दिया था लेकिन उन्‍हें अंतरिम राहत देते हुए तीन सप्‍ताह तक गिरफ्तार नही करने का आदेश जारी किया था।

आप इस बार के चुनाव में किसे वोट देंगे &#8211 अभी वोट करें

इस पोस्ट को अधिक से अधिक लोगो तक शेयर करे, और इस तरह के पोस्ट को पढने के लिए आप हमारी वेबसाइट विजिट करते रहे.

No comments:

Post a Comment