Sunday, January 13, 2019

फिर से लाया गया फौरी तीन तलाक पर अध्यादेश, पिछली बार इस वजह से संसद से नहीं हो सका था पारित

नई फौरी तीन तलाक की प्रथा पर रोक लगाने और उसे दंडनीय अपराध घोषित करने के तहत सरकार एक बार फिर अध्यादेश लेकर आयी है। दरअसल, शनिवार को मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) अध्यादेश, 2019 जारी किया गया जिसके तहत एक बार में तीन तलाक लेना गैरकानूनी, अवैधानिक होगा और पति को इसके लिए तीन साल की कैद हो सकती है।

बीते साल के सितंबर माह में जारी किए गए पिछले अध्यादेश को कानून की शक्ल देने के लिए लाया गया और फिर एक विधेयक लोकसभा से पास भी कर दिया गया लेकिन मुश्किल ये है कि वह राज्यसभा में लंबित रहा।

आपको बता दें कि विधेयक को संसदीय मंजूरी नहीं मिल पायी जिसकी वजह से नये अध्यादेश को लाने की जरूरत पड़ गयी। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने पिछले हफ्ते अध्यादेश को फिर से जारी पर मुहर लगा दी। प्रस्तावित कानून के गलत इस्तेमाल के डर को कम करने के लिए सरकार ने इसमें कुछ निश्चित सुरक्षा उपायों को शामिल किया है जिससे कि मुकदमे से पहले आरोपी की जमानत के प्रावधान को भी शिमिल कर लिया गया है।

याद दिला दे कि कैबिनेट ने विधेयक में इन संशोधनों को किए जाने की मंजूरी पिछले साल के 29 अगस्त को ही दे दी थी। बता दें कि वैसे तो अध्यादेश इसे एक “गैर जमानती” अपराध के तौर पर पहचान देती है लेकिन एक आरोपी केस दर्ज होने से पहले ही जमानत के लिए मजिस्ट्रेट के पास जा कर गुहार लगा सकता है। एक गैर जमानती अपराध में जमानत सीधे पुलिस या पुलिस थाने से मिलने का नियम नहीं है।

घर बैठे फ्री में पैसे कमाने के लिए अभी देख &#8211 यहाँ कमाये

इस पोस्ट को अधिक से अधिक लोगो तक शेयर करे, और इस तरह के पोस्ट को पढने के लिए आप हमारी वेबसाइट विजिट करते रहे.

No comments:

Post a Comment