Saturday, May 18, 2019

देखें, लैंगिक भेद को खत्म करना चाहते हैं गोकुलम के अध्यक्ष प्रवीण..

आज एक बार फिर मै कुछ खेल से जुडी नयी पोस्ट की अपडेट लेकर आया हूँ, इस पोस्ट को अंत तक पढ़ते रहे ..

इंडियन वुमेंस लीग (आईडब्ल्यूएल) का तीसरा संस्करण जारी है और गोकुलम केरला इकलौता ऐसा आई-लीग क्लब है जिसने इस टूर्नामेंट अपनी टीम भेजी है। क्लब के अध्यक्ष वी.सी. प्रवीण का कहा है कि ऐसा करते हुए वह इस बात पर जोर देना चाह रहे हैं कि &#8216फुटबाल मतलब केवल पुरुषों का फुटबाल नहीं होता है।&#8217

प्रवीण ने आईएएनएस से कहा, &#8220हर फील्ड की तरह यहां भी महिलाओं को एक समान मौका मिलना चाहिए। महिला टीम को भेजने के पीछे यही कारण है।&#8221

देश में महिला टीम को बनाने में कई चुनौतियों का सामना करने के बावजूद प्रवीण का मानना है कि इस खेल में आगे बढ़ने की क्षमता है। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि इसके लिए अखिल भारतीय फुटबाल महासंघ (एआईएफएफ) को कई कदम उठाने पडें़गे।

प्रवीण ने कहा, &#8220अगर अधिक आई-लीग क्लब और आईएसएल क्लब महिला फुटबाल में निवेश करते हैं तो खिलाड़ियों को अधिक अवसर मिलेगा। हम एक ट्रेंड शुरू करना चाहते हैं और अन्य क्लबों को दिखाना चाहते हैं कि फुटबाल का मतलब सिर्फ पुरुषों का फुटबाल नहीं है।&#8221

प्रवीण ने कहा, &#8220महिला फुटबाल अभी भी अपनी प्रारंभिक अवस्था में है और इसमें काफी सुधार किया जाना चाहिए। एआईएफएफ को लीग को बेहतर तरीके से तैयार करना चाहिए और इसमें अधिक पेशेवर क्लबों की भागीदारी होनी चाहिए। इस देश में महिला फुटबाल के महत्व के बारे में क्लबों को फुटबाल संघ को समझाना होगा।&#8221

उन्होंने यह भी बताया कि लीग के शुरू होने की तारीख के बारे में एक महीने पहले बताया गया जिस कारण उन खिलाड़ियों को रिकवर करने का समय नहीं मिला जो भारतीय टीम का हिस्सा थीं।

प्रवीण ने कहा, &#8220हम टूर्नामेंट से पहले कोझीकोड में मुश्किल से 15 दिनों का प्रशिक्षण शिविर लगा पाए। राष्ट्रीय टूर्नामेंट की तैयारी के लिए प्रत्येक क्लब को अधिक समय चाहिए। इसके अलावा, आईडब्ल्यूएल की तारीखों की घोषणा एक महीने पहले ही की गई थी, जिससे हमें खिलाड़ियों को टीम में शामिल और पंजीकृत करने के लिए संघर्ष करना पड़ा।&#8221

उन्होंने कहा, &#8220हमारे शिविर के दौरान पुरुषों की टीम के खिलाफ तीन दोस्ताना मैच हुए और उन्होंने वास्तव में अच्छा मुकाबला किया। हर बार उन्होंने कड़े प्रतिद्दंद्वियों की मांग की। यहां तक कि हमारे कोचिंग स्टाफ को भी आश्चर्य हुआ। इन लड़कियों को फुटबॉल पसंद है और यही मुझे उनके बारे में पसंद है।&#8221

No comments:

Post a Comment