Friday, May 3, 2019

‘फानी’, ‘फोनी’,या ‘फेनी’ सही नाम आखिर है, क्या !

ओडिशा की तरफ बढ़ रहा चक्रवाती तूफान ‘फानी’ दस्तक दे चुका है। ओडिशा के तट से फानी की टक्कर के साथ ही तेज़ हवाओं के साथ बारिश भी शुरू हो गई है। तटीय ओडिशा में चक्रवात फानी की वजह से बारिश और तेज हवाएं चलने के बीच राज्य सरकार ने 11 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेज दिया है साथ ही लोगों को घरों में रहने की सलाह दी जा रही है। ओडिशा में आए चक्रवाती तूफान फानी के चलते 223 ट्रेनों को भी रद्द कर दिया गया है। साथ ही रेलवे ने तूफान फानी के चलते हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए हैं।

तूफान ‘फानी’ 175 किमी/घंटा की रफ्तार से ओडिशा में पुरी के तट से टकरा चुका है। माना जा रहा है कि फानी की वजह से ओडिशा के 10,000 गांव और 52 शहर प्रभावित होने के आसार हैं। जहां एक तरफ फानी के खतरे बताये जा रहें हैं वहीं लोगों को अभी तक इसके सही नाम के बारें में भी नहीं पता है।

कोई ‘फानी’ कह रहा है तो कोई ‘फोनी’,या ‘फेनी’ से इसे जानता है। सवाल उठता है कि आखिर इस तूफान का सही नाम है क्या ? बता दें कि ‘फानी’ को नाम देने वाला बांग्लादेश खुद इस तूफान को ‘फोनी’ कह रहा है।

बांग्लादेश ने ही इस तूफान को ‘फानी’ नाम दिया है, लेकिन बांग्लादेश में इसे फानी नहीं बल्कि ‘फोनी’ कहा जा रहा है। ‘फोनी’ का मतलब सांप के फन से है। दरअसल इस तूफान का नाम पहले से निर्धारित एक लिस्ट से लिया गया है। बता दें कि भारतीय मौसम विभाग, हिंद महासागर के आस-पास के 8 देशों से तूफानों के 8-8 नामों की एक लिस्ट मांगकर इस क्षेत्र में आने वाले तूफानों के नाम रखता है। ऐसे में 64 नामों की जो लिस्ट तैयार हुई, ‘फानी’ उनमें से 57वां तूफान है। इस लिस्ट में तूफान का नाम फानी (Fani) ही था लेकिन अब बांग्लादेश इसे फोनी (Foni) कह रहा है, जो बांग्ला उच्चारण की वजह से हुआ है। लेकिन पहले से निर्धारित नाम होने की वजह से बाकी देश इसे ‘फानी’ ही कह रहें हैं।

तूफान का नाम रखने वाले 8 देश : जो देश तूफानों का नाम रखने के लिए 8-8 नाम देते हैं, उनमें भारत, श्रीलंका, बांग्लादेश, मालदीव, म्यांमार, ओमान, पाकिस्तान और थाईलैंड शामिल हैं।

ओडिशा की तरफ बढ़ रहा चक्रवाती तूफान ‘फानी’ दस्तक दे चुका है। ओडिशा के तट से फानी की टक्कर के साथ ही तेज़ हवाओं के साथ बारिश भी शुरू हो…

3 मई को ‘World Press Freedom day’ मनाया जाता है। यूनेस्को की आम सम्मेलन की सिफारिश के बाद पहली बार इसकी शुरुआत 1993 में हुई थी। इसका मकसद था दुनियाभर…

किस करने के दौरान हमारे शरीर में ऑक्सिटॉसिन नाम का हॉर्मोन बनता है जो पार्टनर के साथ आपकी बॉन्डिंग बढ़ाने में मददगार साबित होता है। हालांकि पार्टनर को किस करने…

No comments:

Post a Comment