Sunday, August 4, 2019

नवदीप सैनी का पहले मैच में धमाका, गंभीर ने चेतन चौहान और बिशन सिंह बेदी पर बोला बड़ा हमला

नई दिल्ली(4 अगस्त): दिल्ली की ओर से घरेलू क्रिकेट खेलने वाले 26 वर्षीय युवा तेज गेंदबाज नवदीप सैनी ने फ्लोरिडा के लॉडरहिल में वेस्टइंडीज के खिलाफ धमाकेदार अंदाज में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में शुरूआत की है। सैनी को वेस्टइंडीज दौरे पर के लिए भारतीय टी-20 और वनडे टीम में शामिल किया गया। यह पहला मौका था जब उन्हें टीम इंडिया में जगह दी गई। ऐसे में उन्हें दौरे के पहले ही मैच में डेब्यू करने का मौका भी मिल गया। अंतरराष्ट्रीय करियर में पहले ओवर में ही दो विकेट झटककर सैनी ने धमाका कर दिया। हालांकि करियर की दूसरी गेंद पर निकोलस पूरन ने छक्का जड़ कर उनकी लय बिगाड़ने की कोशिश की लेकिन उसके बाद शानदार वापसी करते हुए सैनी ने चौथी गेंद पर पूरन और पांचवीं पर शिमरॉन हेटमायर का विकेट लेकर सनसनी मचा दी।

 इसके बाद पारी के आखिरी ओवर में सैनी ने किरॉन पोलार्ड को एलबीडब्ल्यू कर तीसरी सफलता हासिल की। इस तरह पहले मैच में उन्होंने 4 ओवर में 17 रन देकर 3 विकेट हासिल किए। सैनी के शानदार प्रदर्शन से गदगद टीम इंडिया के पूर्व आरंभिक बल्लेबाज गौतम गंभीर ने ट्वीट कर बिशन सिंह बेदी और चेतन चौहान जैसे दिग्गजों को निशाने पर ले लिया। गंभीर ने ट्वीट कर कहा,  भारतीय टीम के लिए डेब्यू करने के लिए नवदीव सैनी तुम्हें बधाई। तुमने गेंदबाजी करने से पहले ही बिशन सिंह बेंदी और चेतन चौहान के विकेट हासिल कर लिए हैं। तुम्हें भारतीय टीम के लिए डेब्यू करता देख इन दोनों के मिडिल स्टंप उखड़ गए हैं क्योंकि तुम्हारे खेल के मैदान में उतरने से पहले ही तुम्हारे क्रिकेट करियर के समापन का शोक संदेश लिख दिया था। 

शर्मनाक!नवदीप सैनी क्रिकेट के मैदान पर अपनी सफलता का श्रेय गौतम गंभीर को देते हैं। वो उन्हें अपना मेंटोर भी मानते हैं। सैनी सार्वजनिक रूप से ये बात कई बार कह चुके हैं। सैनी मूल रूप से हरियाणा के करनाल के रहने वाले हैं। उन्हें पहली बार करनाल प्रीमियर लीग में खेलता दिल्ली के पूर्व रणजी क्रिकेटर सुमित नरवाल ने देखा था। वो उनकी प्रतिभा से प्रभावित हुए और उन्हें दिल्ली लेकर आ गए। इसी दौरान उनकी मुलाकात दिल्ली रणजी टीम के कप्तान गौतम गंभीर से हुई। गंभीर ने चयनकर्ताओं और डीडीसीए से सैनी को दिल्ली की टीम में शामिल करने का अनुरोध किया था। लेकिन बताया जाता है कि बिशन सिंह बेदी और चेतन चौहान ऐसा नहीं होने देना चाहते थे। गंभीर अपनी बात पर अड़े रहे और अंतत: सैनी को दिल्ली की टीम में जगह दिलाने में सफल रहे। उनकी कप्तानी में ही सैनी ने दिल्ली के लिए दिसंबर 2016 में बड़ौदा के खिलाफ रणजी डेब्यू करने का मौका दिया। उसके बाद से सैनी लगातार आगे बढ़ते गए। इसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा।

घर बैठे फ्री में पैसे कमाने के लिए अभी देख &#8211 यहाँ कमाये

No comments:

Post a Comment