Tuesday, August 6, 2019

GJ 357d: नासा ने खोजा पहला ‘सुपर अर्थ’

GJ 357d: नासा ने खोजा पहला ‘सुपर अर्थ’ नासा के ट्रांजिटिंग एक्सोप्लेनेट सर्वे सैटेलाइट (TESS) मिशन ने हमारे अपने सौर मंडल से 31 प्रकाश वर्ष दूर स्थित सुपर-अर्थ ग्रह GJ 357 d की खोज की है। शोधकर्ताओं का दावा है कि यह पहला &#8220सुपर-अर्थ&#8221 ग्रह है जो संभवतः जीवन का समर्थन कर सकता है क्योंकि यह अपने तारे के &#8220रहने योग्य क्षेत्र या गोल्डीलॉक्स ज़ोन&#8221 के भीतर परिक्रमा करता है।

GJ 357d के बारे में

यह नासा के TESS द्वारा 2019 की शुरुआत में खोजा गया सुपर-अर्थ ग्रह है। यह GJ 357 ग्रहों की प्रणाली में स्थित है, जिसमें G-357 d सहित तीन ग्रहों में हमारे अपने सूरज और बंदरगाह के आकार का लगभग एक तिहाई, बौना सूरज है।

यह हमारे सौर मंडल से लगभग 31 प्रकाश वर्ष दूर है। यह जीजे 357 नाम के एक तारे की परिक्रमा करता है। यह पृथ्वी से 22% बड़ा है और बुध की तुलना में अपने तारे के 11 गुना अधिक परिक्रमा करता है। इसमें घना वातावरण होता है और माना जाता है कि सतह का तापमान 254 डिग्री सेल्सियस तक होता है। यह अपने तारे से उतनी ही ऊर्जा प्राप्त कर सकता है जितना कि मंगल सूर्य से करता है और यह पृथ्वी की तरह इसकी सतह पर तरल पानी बनाए रख सकता है।

GJ 357d: नासा ने खोजा पहला ‘सुपर अर्थ’ &#8211 खोज का महत्व

यह इस सुपर-अर्थ ग्रह और हमारे सौर मंडल के बाहर अन्य बड़े एक्सोप्लैनेट के बारे में बहुमूल्य जानकारी प्रदान करेगा। इसने एक्सोप्लेनेट के सिद्धांतों और मॉडलों का परीक्षण करने के लिए खगोलविदों के लिए दरवाजा खोल दिया है।

सुपर अर्थ&#8217 पर जीवन

अमेरिका की कॉर्नेल यूनिवर्सटी की प्रफेसर और वैज्ञानिकों की टीम की सदस्य् लिजा कलटेनेगर ने बताया कि इस ग्रह पर जीवन की लगभग सभी परिस्थितियां हैं। उन्होंने बताया कि इसकी अपने सूर्य से दूरी मंगल ग्रह जैसी ही है साथ ही ग्रह पर चट्टानों की बनावट भी पृथ्वी से मिलती जुलती है। वैज्ञानिकों का कहना है कि इस ग्रह के आसपास वायुमंडल होने का भी अनुमान है।

तरल रूप में हो सकता है पानी

वैज्ञानिकों के मुताबिक इस ग्रह का वायुमंडल है इसलिए यह मंगल से ज्यादा तापमान होने की संभावना है और यहां पानी भी तरल अवस्था में हो सकता है। &#8216सुपर अर्थ&#8217 जीजे 357डी का आकार पृथ्वी के बराबर या दोगुना हो सकता है। इस ग्रह के बारे में शोध ऐस्ट्रॉनॉमी ऐंड ऐस्ट्रोफिजिक्स जर्नल में प्रकाशित किया गया। लिजा कलटेनेगर ने कहा कि GJ 357d की सतह पर हमारी धरती की तरह पानी तरल रूप में हो सकता है। हम टेलीस्कोप की मदद से इस पर जीवन के संकेतों की पहचान कर सकते हैं।

शब्दावली

एक्सोप्लैनेट: यह वह ग्रह है जो हमारे अपने सौर मंडल के बाहर परिक्रमा करता है।
सुपर अर्थ: यह पृथ्वी के मुकाबले बड़े पैमाने पर फैला हुआ ग्रह है, लेकिन सौर मंडल के बर्फ दिग्गजों, यूरेनस और नेपच्यून के द्रव्यमान से काफी नीचे है। यह केवल ग्रह के द्रव्यमान को संदर्भित करता है, और वास या सतह की स्थिति के बारे में कुछ भी नहीं बताता है।

जम्मू और कश्मीर पुनर्गठन बिल 2019

GJ 357d: नासा ने खोजा पहला ‘सुपर अर्थ’ Parinaam Dekho.

No comments:

Post a Comment