Saturday, September 14, 2019

पाकिस्तान के संसद में चले लात-घूसे, सत्तारूढ़ सांसदों ने विपक्षी पार्टी पर साफ किये अपने हाथ, लगे ‘गो नियाजी गो’ के नारे

एक तरफ पाकिस्&#x200dतान जहां कश्&#x200dमीर मुद्दे को लेकर लगातार भारत पर निशाना साध रहा है तो वहीं दूसरी तरफ अपनी संसद में सांसद के शर्मनाक व्&#x200dयवहार से एक बार फिर से पाकिस्तान की छवि धूमिल हो रही है। आपकी बता दें कि संसद ‘मजलिस-ए-शूरा’ में बीते गुरुवार को संयुक्त अधिवेशन चल रहा था, राष्ट्रपति आरिफ अल्वी सदन को संबोधित कर रहे थे। उनके संबोधन के चलते ही पूरे संसद में जोर-जोर से नारेबाजी होने लगी। ये नारेबाजी पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ हो रही थी।

विपक्षी पार्टियों की इस नारेबाजी को देखते ही सत्तारुढ़ पार्टी पीटीआई के सांसद अक्रामक हो गए। इसके बाद वो नारेबाजी कर रहे सांसदों के साथ धक्का मुक्की करने लगे। इस दौरान एक महिला सांसद के साथ भी दुर्व्यवहार की घटना हुई। इसके बाद ये हंगमा थमने की बजाए और भी ज्यादा बढ़ता चला गया।

जानकारी के मुताबिक संयुक्&#x200dत अधिवेशन के दौरान राष्ट्रपति आरिफ अल्वी के भाषण के बीच पीएम इमरान खान के खिलाफ खूब नारेबाजी होने लगी। संसद सदस्&#x200dय वेल में आकर खूब नारे लगाने लगे। यह अधिवेशन इमरान खान सरकार के एक साल पूरा होने पर बुलाया गया था। इस अधिवेशन में शाम के 05:00 बजे जैसे ही राष्ट्रपति अल्&#x200dवी ने इमरान खान सरकार को एक साल पूरा करने की बधाई दी, तो संसद में हंगामा शुरू हो गया।

विपक्षी सांसदों ने संसद की वेल में आकर पीएम इमरान खान के खिलाफ जबरदस्त नारेबाजी की। उनके खिलाफ विपक्षी नेताओं ने ‘गो नियाजी गो’ (Go Niazi Go) के नारे लगाए। इस दौरान तहरीक-ए-इंसाफ और पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के नेताओं ने एक-दूसरे पर जमकर लात-घूंसें बरसाए। विपक्षी नेताओं ने इमरान को आर्थिक, रक्षा और विदेशी मामलों समेत सभी मोर्चों पर फेल बताया और तमाम अंतरराष्&#x200dट्रीय मंचों पर मिली नाकामयाबी के लिए इमरान सरकार को कोसने लगे।

जानिए क्या है ‘गो नियाजी गो’
दरअसल, पाकिस्तान के पीएम इमरान खान का पूरा नाम इमरान अहमद खान नियाजी है। ‘गो नियाजी गो’ कहने के पीछे की एक बड़ी वजह ये है कि इमरान की तुलना जनरल नियाजी से की गई है। जनरल नियाजी ही वो शख्स था, जिसकी अगुवाई में पाकिस्तान बांग्लादेश में भारत के साथ युद्ध लड़ रहा था, जिसमें पाकिस्तान को मुंह की खानी पड़ी और भारत ने दुनियाभर में अपनी ताकत का लोहा मनवाया था।

इसी युद्ध के बाद पाकिस्तान के 2 टुकड़े हुए थे और बांग्लादेश एक स्वतंत्र राष्ट्र बना था। सन् 1971 में हुए इस युद्ध में जनरल नियाजी को करीब 92 हजार सैनिकों के साथ भारतीय फौज के सामने आत्मसमर्पण करना पड़ा था. इस घटना को पाकिस्तानी अपने इतिहास का काला अध्याय मानते हैं।

उत्तर कोरिया ने फिर किया दो मिसाइलों का प्रक्षेपण , थर्रा उठा दक्षिण कोरिया समेत अमेरिका

सिडनी यूनिवर्सिटी ने किया खुलासा: अगर धरती से मक्खियों का हुआ सफाया, तो मिट जायेगा इंसान का आस्तित्व टेरर फंडिंग देने वाले पाक को बड़ा झटका, एफएटीएफ ने किया “ब्&#x200dलैकलिस्&#x200dट” देश-दुनिया और पॉलिटिक्स से जुड़ी अन्य सच्ची ख़बरों से उपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को लाइक करें YouTubeचैनल को सब्सक्राइब करें और Twitter पर हमें फॉलो करें  ।

पाकिस्तान के संसद में चले लात-घूसे, सत्तारूढ़ सांसदों ने विपक्षी पार्टी पर साफ किये अपने हाथ, लगे ‘गो नियाजी गो’ के नारे Spasht Awaz.

आप इस बार के चुनाव में किसे वोट देंगे &#8211 अभी वोट करें

No comments:

Post a Comment