Saturday, September 28, 2019

Happy Birthday Lata Mangeshkar: जानें किसने की थी लता की जान लेने की कोशिश

भारतीय सिनेमा जगत में Lata Mangeshkar ने अपनी मधुर आवाज से लोगों को अपना दीवाना बनाया हुआ है। आज Lata Mangeshkar अपना 89वां बर्थडे मना रही हैं।

जानें Lata Mangeshkar की रोचक बातें:

– मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में जन्मी लता एक मध्यमवर्गीय मराठी परिवार से हैं।

– लता ने साल 1942 में ‘किटी हसाल’ के लिए अपना पहला गाना गाया लेकिन उनके पिता दीनानाथ मंगेश्कर को लता का फिल्मों के लिए गाना पसंद नहीं आया और उन्होंने उस फिल्म से लता के गाए गीत को हटवा दिया था।

– इसी साल लता को ‘पहली मंगलगौर’ में एक्टिंग करने का मौका मिला।

– लता की पहली कमाई 25 रुपए थी जो उन्हें एक कार्यक्रम में स्टेज पर गाने के दौरान मिली थी।

– बहुत कम लोगों को यह पता होगा कि लता का असली नाम हेमा हरिदकर है।

– बचपन के दिनों से लता को रेडियो सुनने का बड़ा  शौक था। 18 साल की उम्र में लता ने अपना पहला रेडियो खरीदा था और रेडियो ऑन करते ही उन्हें के.एल.सहगल की मृत्यु की खबर मिली थी। जिसके बाद उन्होंने वह रेडियो दुकानदार को वापस लौटा दिया।

– स्पाइसी खाने की शौकीन लता एक दिन में तकरीबन 12 मिर्चे तक खा लेती हैं। उनका मानना है कि मिर्च खाने से गले की मिठास बढ़ती है।

– लता को किक्रेट देखने का भी काफी शौक रहा है। लार्डस में उनकी एक सीट हमेशा रिजर्व रहती हैं।

– लता महज एक दिन के लिये स्कूल गयी थीं। इसकी वजह यह रही कि जब वह पहले दिन अपनी छोटी बहन आशा भोंसले को स्कूल लेकर गयी तो टीचर ने आशा को यह कहकर स्कूल से निकाल दिया कि उन्हें भी स्कूल की फीस देनी होगी। बाद में लता ने निश्चय किया कि वह कभी स्कूल नहीं जाएंगी।

– लता तब बहुत निराश हो गई थीं जब गायक और म्यूजिक कंपोजर स्वर्गीय भूपेन हजारिका की पत्नी प्रियंवदा ने भूपेन और लता के बीच प्रेम संबंध होने का दावा किया था।

– लता को न्यूयार्क यूनिवर्सिटी सहित छह विश्वविधालयों से मानक उपाधि से नवाजा गया।

Lata Mangeshkar की जब रफ़ी से बातचीत हुई बंद:

– लता ने मोहम्मद रफी के साथ सैकड़ों गीत गाए थे, लेकिन एक समय ऐसा भी आया था जब उन्होंने रफी से बातचीत बंद कर दी थी। दोनों ने एक साथ गीत गाने से इंकार कर दिया था। हालांकि 4 सालों बाद अभिनेत्री नरगिस के प्रयास से दोनों ने एक साथ एक कार्यक्रम में ‘दिल पुकारे’ गीत गाया।

Lata Mangeshkar की जान लेने की हुई कोशिश:

– वर्ष 1962 में लता की जान लेने की कोशिश की गई। तब उन्हें स्लो प्वॉइजन दिया गया। लता की बेहद करीबी पदमा सचदेव ने इसका जिक्र अपनी किताब ‘Aisa Kahan Se Lauen’में किया है। हालांकि उन्हें मारने की कोशिश किसने की, इस बारे में आज तक नहीं हो पाया।

    भारतीय सिनेमा जगत में Lata Mangeshkar ने अपनी मधुर आवाज से लोगों को अपना दीवाना बनाया हुआ है। आज Lata Mangeshkar अपना 89वां बर्थडे मना रही हैं। जानें Lata Mangeshkar…

    No comments:

    Post a Comment