Sunday, October 20, 2019

पुलिस हिरासत में ली गईं फारूक अब्दुल्ला की बेटी और बहन, अनुच्छेद-370 के खिलाफ कर रही थी प्रदर्शन

पुलिस हिरासत में ली गईं फारूक अब्दुल्ला की बेटी और बहन, अनुच्छेद-370 के खिलाफ कर रही थी प्रदर्शन

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 हटे हुए 70 दिनों से ज्यादा बीत चुके है. धीरे-धीरे घाटी के हालात सामान्य होते हुए नजर आ रहे हैं. वहीं इसी बीच कश्मीर में विरोध-प्रदर्शन भी देखने को मिल रहा है. मंगलवार को यहां पर महिलाओं ने विरोध-प्रदर्शन किया. अब इसी विरोध प्रदर्शन के चलते जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला की बहन सुरैया और उनकी बेटी साफिया को हिरासत में लिया गया है.

लाल चौक पर कर रही थी प्रदर्शन

अनुच्छेद-370 हटाए जाने के बाद मंगलवार को सिविल सोसायटी में विरोध-प्रदर्शन किया गया. लाल चौक पर हुए इस प्रदर्शन में कई कश्मीरी महिलाएं शामिल हुई. इसी विरोध प्रदर्शन में नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला की बहन और बेटी भी शामिल थी. पुलिस ने विरोध प्रदर्शन कर रही महिलाओं को हिरासत में ले लिया. बताया जा रहा है कि ये दोनों इस विरोध प्रदर्शन को लीड कर रही थी. हाथों पर काली पट्टी बांध कर पोस्टर लिए ये महिलाएं प्रदर्शन कर रही थी.

पहले पुलिस ने सभी महिलाओं को विरोध-प्रदर्शन रोककर शांतिपूर्ण वापस जाने की अपील की. लेकिन महिलाओं ने जाने से इनकार कर दिया और वहीं पर धरने पर बैठ गई. जिसके बाद पुलिस ने प्रदर्शन कर रही महिलाओं को हिरासत में ले लिया. फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती पहले से ही पुलिस हिरासते में है.

सोमवार को ही शुरू हुई है मोबाइल पोस्टपेड सेवा

बता दें कि घाटी में से अनुच्छेद-370 को हटाए हुए 70 दिन से करीब हो गए है. अब वहां के हालात धीरे-धीरे सामान्य होने लगे है. सोमवार को कश्मीर में पोस्टपेड मोबाइल सेवा दोबारा से शुरू हुई. वहीं इसके कुछ घंटे बाद ही सुरक्षा के लिहाज को देखते हुए एसएमएस (SMS) सेवा बंद की गई. हालांकि अभी तक वहां पर इंटरनेट सेवाओं को दोबारा शुरू नहीं किया गया है.

इस पर जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा- ‘कुछ दिनों के बाद इंटरनेट सेवाओं को भी शुरू कर दिया जाएगा. कश्मीर के लोगों के लिए उनकी जान टेलीफोन से ज्यादा जरूरी नहीं है. पहले भी यहां की जनता टेलीफोन के बिना रहती थी. टेलीफोन का इस्तेमाल आतंकवादी करते है इसलिए ये पाबंदी लगाई गई है.’

SendShareTweetShare

No comments:

Post a Comment