Monday, October 7, 2019

शोधकर्ताओं ने पहली बार व्यक्तिगत वायरस के गठन को देखा

शोधकर्ताओं ने पहली बार व्यक्तिगत वायरस के गठन को देखा संयुक्त राज्य अमेरिका के शोधकर्ताओं ने कणों से वायरस के गठन की छवियों को कैप्चर किया। अनुसंधान ने तंत्र का एक विस्तृत दृष्टिकोण प्रदान किया जिसके साथ कण स्वयं &#8211 एक परजीवी बनाने के लिए इकट्ठे हुए। अध्ययन में फंसे आरएनए वायरस पर प्रदर्शन किया गया था। शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि यह नई उन्नति वायरल बीमारियों के लिए नए उपचार दृष्टिकोणों को खोजने में मदद करेगी।

अनुसंधान के बारे में

अनुसंधान ने साबित किया कि वायरस किसी भी प्रकार के कणों से प्राप्त कर सकता है। चूंकि कणों के प्रोटीन ने खुद को न्यूक्लिक एसिड के आसपास व्यवस्थित किया, इसलिए वैज्ञानिकों ने आरएनए सब्सट्रेट पेश किया। न्यूक्लिक एसिड के आसपास की व्यवस्था ने धब्बे पैदा करना शुरू कर दिया। बड़े होने पर धब्बे विषाणु बन जाते हैं। न्यूक्लिक एसिड पेश किए जाने तक यह व्यवस्था नहीं बढ़ रही थी।

इसलिए, अध्ययन से पता चलता है कि वायरस किसी भी कण से खुद को निकाल सकते हैं। हालांकि, उन्हें उस न्यूक्लिक एसिड की तरह विशिष्ट स्ट्रैटा की आवश्यकता होती है।

शोध के मुख्य निष्कर्ष

जब वायरस बनते हैं तो 30 नैनोमीटर व्यास के होते हैं और इनमें लगभग 180 समान प्रोटीन होते हैं प्रोटीन ने वायरस के निर्माण के दौरान हेक्सागोन और पेंटागन बनाने के लिए स्वयं को आरएनए (रिबो &#8211 न्यूक्लिक एसिड) के आसपास व्यवस्थित किया। इस गठन को कैप्सिड कहा जाता है।

इनफेरोमेट्रिक स्कैटरिंग माइक्रोस्कोपी नामक तकनीक का उपयोग गठन प्रक्रिया को पकड़ने के लिए किया गया था। तकनीक वायरस संरचना को नहीं दिखाती है, हालांकि, इसका आकार और यह बताता है कि यह समय के साथ कैसे बदलता है। शोधकर्ता अभी भी नाभिक विधानसभा के बारे में हैरान हैं।

तो दोस्तों यहा इस पृष्ठ पर शोधकर्ताओं ने पहली बार व्यक्तिगत वायरस के गठन को देखा के बारे में बताया गया है अगर ये आपको पसंद आया हो तो इस पोस्ट को अपने friends के साथ social media में share जरूर करे। ताकि वे इस बारे में जान सके। और नवीनतम अपडेट के लिए हमारे साथ बने रहे।

शोधकर्ताओं ने पहली बार व्यक्तिगत वायरस के गठन को देखा Parinaam Dekho.

No comments:

Post a Comment