Tuesday, December 3, 2019

ध्रुवीय विज्ञान सहयोग समझौते पर हस्ताक्षर करने के लिए भारत और स्वीडन

ध्रुवीय विज्ञान सहयोग समझौते पर हस्ताक्षर करने के लिए भारत और स्वीडन भारत और स्वीडन को स्वीडिश रॉयल युगल की यात्रा के दौरान अपने पहले समुद्री सहयोग समझौते पर हस्ताक्षर करने हैं। समझौते में आर्कटिक और अंटार्कटिक दोनों क्षेत्रों के देशों के बीच सहयोग शामिल है और इसलिए इसका नाम पोलर साइंस है।

महत्व

पिछले कुछ वर्षों में, भारत ने सैन्य सूचनाओं का आदान-प्रदान करने और आर्कटिक क्षेत्र में अपने सशस्त्र बलों की पहुंच बढ़ाने के लिए समुद्री समझौतों की श्रृंखला पर हस्ताक्षर किए हैं। इससे भारत को संसाधन अन्वेषण के बारे में जानने और गति बनाए रखने में मदद मिलेगी। यह समझौता भारत की महत्वाकांक्षाओं को उसकी रक्षा ताकतों को मजबूत करने में सहायक है। समझौते से भारत को आर्कटिक में रूसी ठिकानों तक पहुंचने में मदद मिलेगी।

रॉयल कपल विजिट

स्वीडन के शाही युगल किंग कार्ल सोलहवें गुस्ताफ और स्वीडन की रानी सिल्विया को 5 दिनों के लिए भारत का दौरा करना है। यह देश के लिए स्वीडिश रॉयल्स की तीसरी यात्रा है। इससे पहले ये यात्रा 1993 और 2005 में हुई थी। 2018 में भारत और स्वीडन के बीच द्विपक्षीय व्यापार 3.37 बिलियन अमरीकी डालर था। देशों के बीच संबंध मैत्रीपूर्ण, पारदर्शी और कानून के शासन द्वारा हुए हैं।

तो दोस्तों यहा इस पृष्ठ पर ध्रुवीय विज्ञान सहयोग समझौते पर हस्ताक्षर करने के लिए भारत और स्वीडन के बारे में बताया गया है अगर ये आपको पसंद आया हो तो इस पोस्ट को अपने friends के साथ social media में share जरूर करे। ताकि वे इस बारे में जान सके। और नवीनतम अपडेट के लिए हमारे साथ बने रहे।

ध्रुवीय विज्ञान सहयोग समझौते पर हस्ताक्षर करने के लिए भारत और स्वीडन Parinaam Dekho.

No comments:

Post a Comment