Thursday, December 5, 2019

देखें, Google आरसीएस मैसेजिंग नहीं है सुरक्षित, हैक किया जा सकता है यूजर्स का अकाउंट..

आज एक बार फिर मै कुछ टेक्नोलॉजी से जुडी नयी पोस्ट की अपडेट लेकर आया हूँ, इस पोस्ट को अंत तक पढ़ते रहे ..

दिग्गज सर्च इंजन कपंनी Google ने अक्टूबर में दुनिया भर में Android उपयोगकर्ताओं के लिए रिच कम्युनिकेशंस सर्विसेज के रूप में आरसीएस बनाया। रिच कम्युनिकेशंस सर्विसेज मानक मैसेजिंग सेवाओं की तरह ही यूजर्स को एक दूसरे के लिए मैसेज भेजने और चैट करने की सुविधा प्रदान करती है। यह नेक्स्ट जेनरेशन का एसएमएस प्रोटोकॉल है ।

जो एक तरह से एसएमएस और एमएमएस सर्विस का रिप्लेसमेंट है। पहली बार फरवरी 2008 में जीएसएम एसोसिएशन द्वारा इस सेवा ने केवल अप्रैल 2018 में अपनी लहरें बनाना शुरू किया इसके बाद Google ने इसे अपने मैसेजिंग एप्लिकेशन के साथ एकीकृत करना शुरू किया। यह IP- आधारित मैसेजिंग सेवा SIP और HTTP पर आधारित है, जिसमें ग्रुप चैट, फिल्टर जैसे फीचर्स को इनेबल किया जा सकता है।

GBHackers के अनुसार, &#8220सर्टिफिकेट और डोमेन सत्यापन में कार्यान्वयन की कमी है जो एक हमलावर को बीच में संचार को बाधित करने और हेरफेर करने की अनुमति देता है और वे उपयोगकर्ता पहचान को मान्य करने में भी विफल रहे, जो कॉलर आईडी को खराब होने की अनुमति देता है।&#8221 &#8220इन कमजोरियों का उपयोग एक दूरस्थ या स्थानीय हमलावर द्वारा ओटीपी संदेश को बाधित करने और धोखाधड़ी लेनदेन की मेजबानी करने और अपने ऑनलाइन खातों को संभालने के लिए किया जा सकता है।&#8221

No comments:

Post a Comment