Saturday, March 7, 2020

कोरोना का खौफ: कभी शहर के लोगों से गुलजार थी वुहान की सड़के, आज बनी भूतों का डेरा

कोरोना वायरस दुनिया भर में अपने पांव पसार चूका है। बता दें कि मौजूदा समय में चीन के वुहान शहर की सुनसान सड़कों को देखकर डर लगता है मानों वुहान भूतों का शहर है। रिपोर्ट्स के मुताबिक सड़कों पर गाड़ियां नहीं, बाजार बंद, हर तरफ डर, भय, मातम का माहौल और एक अजीब सी मायूसी।

दिल्ली हिंसा मामले में पुलिस को मिली बड़ी सफलता, हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल की हत्या के आरोपियों की हुई शिनाख्त!

लोग जिंदगी और मौत के बीच जूझ रहे हैं। चीन के वाइस प्रीमियर सुन चुनलान के वुहान दौरे के दौरान एक व्यक्ति अपार्टमेंट से चिल्ला कर बता रहा है कि वुहान के अधिकारी फर्जी काम कर रहे हैं। वीडियो चर्चा का केंद्र बनने के साथ बता रहा है कि वुहान में जहां-तहां फंसे लोग किस कदर असहाय और मजबूर थे।

आपको बता दें कि कोरोना संक्रमण के केंद्र के रहे चीन के शहर वुहान शहर से लौटे लातूर के एमबीबीएस छात्र आशीष कुर्मे (20) वहां का भयावह मंजर बताते बताते सिहर उठते हैं। आशीष बताते हैं कि वह वुहान के पास स्थित एक यूनिवर्सिटी से एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहे हैं। कोरोना का पहला केस 8 दिसंबर को ही मिल गया था, लेकिन इसकी जानकारी जनवरी के पहले हफ्ते में मिली।

निर्भया कांड: आरोपियों के सारे विकल्प समाप्त, 20 मार्च की सुबह फांसी होना तय!

शुरुआत में लोगों की आवाजाही पर कोई रोक नहीं थी। मरीजों के मिलने और मौतों का आंकड़ा बढ़ा तो पूरे शहर में किलेबंदी कर दी गई। हमें नियमित मास्क उपलब्ध कराया जाता था और स्वास्थ्य जांच भी होती थी।

इसके साथ ही आशीष बताते हैं कि सड़कों पर जो लाशों का वीडियो चल रहा था, वह फर्जी था। मैं जब वापस लौटा तब देखा। ये सच है कि वुहान में उस वक्त जिंदगी बदलने लगी थी। जनवरी के पहले हफ्ते से ही लोगों के शरीर के तापमान की जांच होने लगी थी।

भूमि अधिग्रहण मामले में SC का बड़ा फैसला, ‘जमीनों के मालिक अधिग्रहण रद्द का दबाव नहीं बना सकते’

स्पष्ट आवाज़ पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटरपर फॉलो करें। साथ ही फोन पर खबरे पढ़ने व देखने के लिए Play Store पर हमारा एप्प Spasht Awaz डाउनलोड करें।

Risabh SinghRishabh Singh

shivamsinghrishabh@gmail.com

कोरोना का खौफ: कभी शहर के लोगों से गुलजार थी वुहान की सड़के, आज बनी भूतों का डेरा Spasht Awaz.

No comments:

Post a Comment