Sunday, March 22, 2020

ICMR ने भारत में कोरोना वायरस का परीक्षण करने के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए

ICMR ने भारत में कोरोना वायरस का परीक्षण करने के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए 20 मार्च 2020 को, भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद ने COVID-19 का परीक्षण करने के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए।

हाइलाइट

आईसीएमआर अब तक केवल रोगसूचक रोगियों (कोरोना वायरस के लक्षणों वाले व्यक्ति) पर परीक्षण कर रहा है। हालांकि, काउंसिल ने अब रैंडम सैंपलिंग तेज कर दी है। इसमें लोगों में फ्लू जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। इस तरह का कदम मुख्य रूप से यह जांचने के लिए अपनाया गया है कि सामुदायिक प्रसारण हो रहा है या नहीं। इसके अलावा, भारत 22 मार्च, 2020 को “जनता कर्फ्यू” के लिए तैयार है, जहां लोग स्वेच्छा से घरों के अंदर रहेंगे।

नए परीक्षण में निष्कर्ष

नए दिशानिर्देशों में रोगसूचक रोगियों में सभी अस्पताल में भर्ती रोगी शामिल हैं। इसमें रोगसूचक स्वास्थ्य देखभाल कर्मी भी शामिल हैं। संक्रमित व्यक्तियों के उच्च जोखिम वाले संपर्कों का परीक्षण 5 दिनों में एक बार किया जाना है। नया उपाय तब आया है जब भारत ने 20 मार्च, 2020 को 63 नए मामलों की अचानक वृद्धि देखी। भारत वायरस को रोकने के लिए कई उपाय कर रहा है। भारतीय नौसेना भी बचाव में आ गई है।

भारतीय नौसेना द्वारा संगरोध शिविर

भारतीय नौसेना ने विशाखापट्टनम में एक संगरोध शिविर स्थापित किया है। शिविर में 200 रोगियों को समायोजित करने की क्षमता है।

तो दोस्तों यहा इस पृष्ठ पर ICMR ने भारत में कोरोना वायरस का परीक्षण करने के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए के बारे में बताया गया है अगर ये आपको पसंद आया हो तो इस पोस्ट को अपने friends के साथ social media में share जरूर करे। ताकि वे इस बारे में जान सके। और नवीनतम अपडेट के लिए हमारे साथ बने रहे।

ICMR ने भारत में कोरोना वायरस का परीक्षण करने के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए Parinaam Dekho.

No comments:

Post a Comment