Monday, March 2, 2020

निर्भया केस: दोषी पवन का आखिरी दांव हुआ फेल, SC ने खारिज की याचिका, कल होगी फांसी!

देश का सबसे बड़ा न्यायलय सुप्रीम कोर्ट ने साल 2012 के निर्भया सामूहिक दुष्कर्म और हत्या मामले में फांसी की सजा का सामना कर रहे चार आरोपियों में एक पवन कुमार गुप्ता की क्यूरेटिव याचिका सोमवार को खारिज कर दी। सोमवार को बंद कमरे में सुनवाई हुई। इस याचिका की सुनवाई पांच जचों की पीठ ने की, जिसमें जस्टिस एन वी रमण, जस्टिस अरुण मिश्रा, जस्टिस आर एफ नरीमन, जस्टिस आर भानुमति और जस्टिस अशोक भूषण शामिल थे।

बता दें कि दोषी पवन ने अपराध के समय खुद के नाबालिग होने का दावा करते हुए फांसी को उम्रकैद में बदलने का अनुरोध किया था। निर्भया मामले में चारों दोषियों को 3 मार्च की सुबह फांसी होनी है।

2012 Delhi gangrape case: One of the convict Pawan's curative petition has been dismissed the Supreme Court. petition had sought commutation of his death penalty to life imprisonment. pic.twitter.com/2KhruqyxVb

&mdash ANI (@ANI) March 2, 2020

केंद्रीय कानून मंत्री ने लेफ्ट पर साधा निशाना, कहा- हमें न दें ज्ञान

वकील ए पी सिंह ने बताया था कि उन्होंने रविवार को सुप्रीम कोर्ट की रजिस्ट्री में एक अर्जी दाखिल कर खुली अदालत में पवन की सुधारात्मक याचिका पर मौखिक सुनवाई का अनुरोध किया। दोषियों में केवल पवन के पास ही अब सुधारात्मक याचिका दायर करने का विकल्प बचा था।

गौरतलब है कि दक्षिणी दिल्ली में 16 दिसंबर 2012 को चलती बस में एक छात्रा से सामूहिक बलात्कार की घटना हुई थी और दोषियों ने बर्बरता करने के बाद उसे बस से फेंक दिया था। बाद में उसकी मौत हो गई। पवन और एक अन्य दोषी अक्षय सिंह ने भी यहां निचली अदालत का रुख कर डेथ वारंट की तामील पर रोक लगाने का अनुरोध किया।

दिल्ली हिंसा: दंगाइयों से नुकसान की भरपाई करेगी दिल्ली पुलिस!

धीमी ! लेकिन अर्थव्यवस्था में हो रहा सुधार, तीसरी तिमाही में 4.7 फीसदी रही GDP

स्पष्ट आवाज़ पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटरपर फॉलो करें। साथ ही फोन पर खबरे पढ़ने व देखने के लिए Play Store पर हमारा एप्प Spasht Awaz डाउनलोड करें।

निर्भया केस: दोषी पवन का आखिरी दांव हुआ फेल, SC ने खारिज की याचिका, कल होगी फांसी! Spasht Awaz.

आप इस बार के चुनाव में किसे वोट देंगे &#8211 अभी वोट करें

No comments:

Post a Comment