Sunday, May 17, 2020

खुल गयी चीन की पोल, दुनियां से छुपायी थी कोरोना के शुरूआती सैंपल

दुनियाँ भर में कोरोना महामारी फैलाकर खुद चैन की नींद सोने वाला चीन की अब पोल खुल रही है| कोरोना वायरस को लेकर चीन को शुरुआत से आलोचना और सवालों का सामना करना पड़ रहा है। अब एक स्वास्थ्य अधिकारी के ताजा बयान से एक बार फिर सवालों की झड़ी लग गई है। इस अधिकारी ने खुलासा किया है कि देश में कोरोना वायरस के शुरुआती सैंपल्स को नष्ट कर दिया गया था। उन्होंने कहा है कि खतरनाक वायरस को फैलने से बायोसेफ्टी को ध्यान में रखते हुए एक्सपर्ट्स की राय और रीसर्च के बाद यह फैसला किया गया था।

आपको बता दें कि अमेरिका चीन पर कोरोना वायरस जानबुझकर फैलाने का आरोप लगा रही है| देश के विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो पहले भी आरोप लगा चुके हैं कि देश की कम्यूनिस्ट पार्टी पर वैश्विक महामारी के हालात में अंतरराष्ट्रीय पारदर्शिता को ताक पर रख रही है।
उन्होंने आरोप लगाया है कि चीन ने वायरस के सैंपल नष्ट कर दिए जिस कारण वह कहां से पैदा हुआ यह पता लगाना मुश्किल हो गया है।

हालांकि, लिओ ने कहा कि है कि पॉम्पियो का बयान गुमराह करने वाला है। उन्होंने दावा किया है कि सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए एहतियात के तौर पर सैंपल्स को नष्ट किया गया था। उन्होंने कहा, &#8216अगर किसी लैब में वायरस को स्टोर करने के लिए जरूरी कंडीशन्स नहीं हैं तो उन्हें वहीं उसे नष्ट कर देना चाहिए या ऐसे प्रफेशनल स्टोरेज इंस्टिट्यूशन्स में भेज देना चाहिए जहां ऐसी फसिलटी हो।&#8217 उन्होंने कहा है कि ऐसे नियमों का सख्ती से पालन किया जाता है।

मीडिया सूत्रों के मुताबिक, दिसंबर के अंत में किए गए टेस्ट्स में SARS जैसे घातक वायरस की आशंका सामने आई थी। इसके बाद ये सैंपल नष्ट किए गए थे। तब तक चीन ने विश्व स्वास्थ्य संगठन को इस बारे में सूचना नहीं दी थी। करीब दो हफ्ते बाद दुनिया से वायरस का जीनोम शेयर किया गया था। पॉम्पियो ने चीन पर आरोप लगाया था कि उसके जानकारी छिपाने की वजह से कोरोना वायरस को रोकने के लिए वैक्सीन और इलाज के लिए दवा बनाने में दुनिया को इतनी मुश्किल हो रही है।
Dailyhunt

Disclaimer: This story is auto-aggregated a computer program and has not been created or edited Dailyhunt. Publisher: Khabar Arena

No comments:

Post a Comment