Thursday, May 14, 2020

वित्त मंत्रालय ने शुरू किया वार्षिक अभ्यास

वित्त मंत्रालय ने शुरू किया वार्षिक अभ्यास 12 मई 2020 को वित्त मंत्रालय ने घोषणा की कि सरकारी विभाग और मंत्रालय विभिन्न सरकारी संस्थाओं द्वारा जारी किए गए ऋणों के खिलाफ जारी गारंटी की समीक्षा करेंगे।

हाइलाइट

अभ्यास यह सुनिश्चित करने के लिए किया जाता है कि उधारकर्ता ऋण समझौते के अनुसार चुकौती दायित्वों और ब्याज दायित्वों का निर्वहन कर रहा है। मंत्रालयों के वित्तीय सलाहकारों को वित्त मंत्रालय के तहत संचालित बजट विंग के लिए सरकार की गारंटी की समीक्षा प्रस्तुत करने के लिए कहा गया है। यह एक वार्षिक अभ्यास है जो वित्त मंत्रालय द्वारा किया जाता है।

वैधता

उधारकर्ताओं की गारंटी राशि की क्षमता की निगरानी के लिए समीक्षा अभ्यास किया जाता है। संविधान का अनुच्छेद 292 उधार की अदायगी की गारंटी देता है। लेख के अनुसार, सरकार वित्तीय वर्ष में वृद्धिशील गारंटी के लिए सकल घरेलू उत्पाद का 0.5% तक प्रदान करेगी।

वर्तमान परिदृश्य

भारत सरकार द्वारा दी गई गारंटी 2004-05 में 1.07 लाख करोड़ रुपए से बढ़कर 2018-19 में 4.47 लाख करोड़ रुपए हो गई है। सरकारी संस्थाओं द्वारा परियोजनाओं की व्यवहार्यता में सुधार करने के लिए गारंटी प्रदान की जाती है और उधार की लागत को कम करने में भी मदद मिलती है। सरकार की गारंटी नीति ने 2010 की सुर्खियों में लॉन्च किया और गारंटी की मंजूरी में सुधार किया है

गारंटी के उद्देश्य

नीति के अनुसार, सरकारी गारंटी के मुख्य उद्देश्य इस प्रकार हैं

  • परियोजनाओं की व्यवहार्यता में सुधार करना
  • सार्वजनिक क्षेत्र को कम हितों पर संसाधन बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित करना
  • रियायती ऋण की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए

अन्य कानूनी प्रावधान

भारतीय अनुबंध अधिनियम, 1872 गारंटी के अनुबंधों को प्रावधान प्रदान करता है।

तो दोस्तों यहा इस पृष्ठ पर वित्त मंत्रालय ने शुरू किया वार्षिक अभ्यास के बारे में बताया गया है अगर ये आपको पसंद आया हो तो इस पोस्ट को अपने friends के साथ social media में share जरूर करे। ताकि वे इस बारे में जान सके। और नवीनतम अपडेट के लिए हमारे साथ बने रहे।

वित्त मंत्रालय ने शुरू किया वार्षिक अभ्यास Parinaam Dekho.

No comments:

Post a Comment