Saturday, May 16, 2020

डायरी क्षेत्र के लिए नई योजना

डायरी क्षेत्र के लिए नई योजना 14 मई 2020 को, भारत सरकार ने डायरी क्षेत्र के लिए एक नई योजना शुरू की। इस योजना ने डायरी सहकारी समितियों और एफपीओ (किसान निर्माता संगठन) का समर्थन करने के लिए कार्यशील पूंजी पर ब्याज सबवेंशन की शुरुआत की है।

प्रमुख विशेषताऐं

यह योजना मौजूदा दूध प्रसंस्करण इकाइयों को आधुनिक बनाने का इरादा रखती है। यह देश की दुग्ध प्रसंस्करण क्षमता को बढ़ाकर 126 लाख लीटर प्रतिदिन कर देगा। यह योजना बैंकों द्वारा सहकारी समितियों और किसान स्वामित्व वाले दूध संगठनों और कंपनियों को दिए गए ऋणों पर ब्याज सब्सिडी प्रदान करेगी। योजना में उन ऋणों को शामिल किया जाएगा जिन्हें 1 अप्रैल, 2020 और 31 मार्च, 2021 के बीच स्वीकृत किया गया था।

इस योजना में 2% प्रति वर्ष का ब्याज उपदान भी दिया गया है। यदि किसान समय पर ऋण चुकाते हैं, तो ब्याज उपशमन का 2% अतिरिक्त प्रोत्साहन प्रदान किया जाएगा। संशोधित योजना से किसानों के 100 करोड़ रुपये उपलब्ध होने की उम्मीद है। इस योजना को राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड (NDDB) द्वारा लागू किया जाना है।

NDBB

राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड की स्थापना भारत की संसद के एक अधिनियम के माध्यम से की गई थी। यह 1965 में स्थापित किया गया था। बोर्ड का मुख्य उद्देश्य एएमयूएल सहकारी के समान सफलताओं का प्रसार करना था। विश्व बैंक ने मिशन की सहायता की। इसे “ऑपरेशन फ्लड” नाम दिया गया था और 26 साल तक चला।

तो दोस्तों यहा इस पृष्ठ पर डायरी क्षेत्र के लिए नई योजना के बारे में बताया गया है अगर ये आपको पसंद आया हो तो इस पोस्ट को अपने friends के साथ social media में share जरूर करे। ताकि वे इस बारे में जान सके। और नवीनतम अपडेट के लिए हमारे साथ बने रहे।

डायरी क्षेत्र के लिए नई योजना Parinaam Dekho.

No comments:

Post a Comment