Saturday, June 27, 2020

पत्रकार हत्याकांड मामले में मानवाधिकार ने यूपी सरकार व डीजीपी को भेजा नोटिस!

पत्रकार हत्याकांड मामले में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने यूपी सरकार व डीजीपी को नोटिस जारी किया है। बता दें कि रेत माफिया पर कथित तौर पर खबर छापने वाले एक पत्रकार की उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में हत्या हुई थी। इसी सिलसिले में मानवाधिकार ने राज्य सरकार और राज्य के पुलिस महानिदेशक को नोटिस भेजा हैं। एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी।

अधिकारी ने कहा कि खबरों के मुताबिक पत्रकार शुभम त्रिपाठी कानपुर से प्रकाशित होने वाले हिंदी दैनिक कंपू मेल के लिये काम करते थे। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने पत्रकार की हत्या पर मीडिया में आई खबरों का संज्ञान लिया और उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव तथा पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) को नोटिस जारी किये हैं।

मानवाधिकार आयोग ने एक बयान जारी कर कहा कि सरकार की लोकतांत्रिक प्रणाली में, मीडिया को चौथा स्तंभ माना जाता है, जिसे इस तरह से निर्मम तरीके से असमाजिक तत्वों का शिकार नहीं बनने दिया जा सकता। आयोग के बयान में कहा गया है कि त्रिपाठी जिले में अवैध रेत खनन के बारे में रिपोर्टिंग कर रहे थे और उनकी जान को खतरा था। कथित तौर पर उनके विरोधियों ने भी जिलाधिकारी के समक्ष उनके खिलाफ एक शिकायत दर्ज कराई थी।

बयान में कहा गया है कि राज्य सरकार को इस विषय की एक स्वतंत्र एजेंसी से निष्पक्ष जांच कराने को भी कहा गया है और इसमें राज्य सीबी सीआईडी को प्राथमिकता देने को कहा गया है। मृतक के परिवार की और मामले के गवाहों की सुरक्षा सुनिश्चित करने को भी कहा गया है। आयोग ने बयान में कहा कि खबरों में यह कहा गया है कि कई मामलों में मीडिया कर्मियों को असमाजिक तत्वों द्वारा निशाना बनाया गया है और ज्यादातर मामलों में पुलिस अधिकारियों द्वारा दोषियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

बयान में कहा गया है कि यह राज्य सरकार का कर्तव्य है कि वह समाज में व्याप्त अवैध गतिविधियों को उजागर करने के लिये जनहित में खतरा मोल लेने वाले मीडिया कर्मियों को पर्याप्त सुरक्षा मुहैया कराए। इससे पहले, भारतीय प्रेस परिषद (पीसीआई) ने पत्रकार की हत्या पर राज्य सरकार से रिपोर्ट मांगी है।

पुलिस अधीक्षक का कहना है कि पिछले शुक्रवार को त्रिपाठी को उन्नाव की दूध मंडी के पास उस समय गोली मार दी गयी थी जब वह मोटरसाइकिल पर अपने दोस्त के साथ घर लौट रहे थे। उन्हें अस्पताल पहुंचाया गया जहां उनकी मौत हो गयी। पीसीआई ने एक बयान में कहा कि भारतीय प्रेस परिषद, उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में युवा पत्रकार त्रिपाठी की हत्या की घटना की कड़ी निंदा करती है।

ये भी पढ़े-

यूपी: पीएम मोदी ने लॉन्च किया आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान

यूपी: कमलेश तिवारी हत्याकांड के 2 आरोपियों पर लगा NSA

कोरोना वायरस लेटेस्ट अपडेट जानने के लिए WhatsApp ग्रुप को ज्वाइन करें। Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। साथ ही फोन पर खबरे पढ़ने व देखने के लिए Play Store पर हमारा एप्प Spasht Awaz डाउनलोड करें।

पत्रकार हत्याकांड मामले में मानवाधिकार ने यूपी सरकार व डीजीपी को भेजा नोटिस! Spasht Awaz.

आप इस बार के चुनाव में किसे वोट देंगे &#8211 अभी वोट करें

No comments:

Post a Comment