Tuesday, July 28, 2020

भारत कोरोने से लड़ेगा और जीतेगा, टेस्टिंग के लिए हैं पुख्ता इंतजामात : नरेन्द्र मोदी!..

आज एक बार फिर मै खान पान से जुडी कुछ जरुरी बातों के साथ ये नयी पोस्ट लेकर आया हूँ, इस पोस्ट को आखिरी तक पढ़ते रहे ..

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये नोएडा, कोलकाता और मुंबई में भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) की तीन नए लैब्स का उद्घाटन किया। पीएम मोदी ने कहा कि आज पूरा देश कोरोना वायरस लड़ रहा है। जिसका असर हमें ग्रामीण क्षेत्रों में ज्यादा देखने को मिला है। आज जिस आज जिस हाइटेक लैब्स का उद्घाटन हुआ है। उससे महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल और उत्तर प्रदेश को कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ने में और ज्यादा फायदा मिलने वाला है।

पीएम मोदी ने आगे कहा कि दिल्ली-एनसीआर, मुंबई और कोलकाता आर्थिक गतिविधि के दृष्टिकोण से काफी महत्वपूर्ण हैं। यहां देश के लाखों युवा अपने सपनों को पूरा करने आते हैं।
ऐसे में देश की मौजूदा टेस्ट कैपिसिटि में 10000 का इजाफा हो जाएगा। अभी शहरों में टेस्ट और ज्यादा तेजी से हो सकेगा। ये लैब्स सिर्फ कोरोना टेस्टिंग तक ही सीमित नहीं रहेगी, बल्कि भविष्य में एचआईवी, डेंगू सहित अन्य खतरनाक बीमारियों की जांच भी करेगा।

पीएम मोदी ने कहा कि हमारे देश में सही समय पर सही फैसलों का चयन किया इसी वजह से भारत देश अन्य देशों के मुकाबले अच्छी स्थिति में है। कोरोना वायरस का कहर वैसे तो पूरी दूनिया पर छाया हुआ है लकिन अन्य देशों के मुकाबले हमारा देश अधिक सुर​क्षित है। जिसकी वजह से हमारे देश में मृत्यु देर कई बड़े देशों के मुकाबले कम है। साथ ही हमारे यहां रिकवरी रेट भी काफी अच्छा है।

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि आने वाले समय में कई सारे त्योहार आने वाले हैं। इस दौरान हमें काफी सावधान रहने की जरूरत है। इसके साथ ही गरीबों को अनाज मिलना भी सुनिश्चित करना जरूरी है। जब तक कोरोना का इलाज नहीं मिल जाता तब तक हमें सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क का प्रयोग आदि के द्वारा ही कोरोना से बचना होगा।

पीएम मोदी ने कहा कि हमारे देश में करीब 10 लाख लोग ठीक हुए हैं। कोरोना के खिलाइ इस लड़ाई में सबसे जरूरी था कोरोना के मद्दनेजर हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर खड़ा करना। इसलिए केंद्र सरकार ने 15 हजार करोड़ रुपये का पहले ऐलान कर दिया था। भारत ने आइसोलेशन, टेस्टिंग से लेकर नेटवर्क स्थापित करने तक काफी तेजी से काम किया।

पीएम मोदी ने कहा पूरे देश में आज 1300 से अधिक लैब्स काम कर रही हैं। आज भारत में पांच लाख से ज्यादा टेस्ट हर रोज हो रहे हैं। आने वाले हफ्तों में इसे 10 लाख प्रतिदिन करने की कोशिश हो रही है। इस महामारी के दौरान हर कोई सभी भारतीयों को बचाने के संकल्प से जुड़ा है। भारत ने जो किया वो एक सफल कहानी है।

उन्होंने कहा कि एक समय भारत में पीपीई किट्स नहीं बनता था। लेकिन भारत विश्व का दूसरा सबसे बड़ा पीपीई किट्स उत्पादक देश बन गया है। हमारे यहां प्रत्येक दिन हर रोज पांच लाख से ज्यादा पीपीई किट्स बन रहे हैं। आज भारत में तीन लाख से ज्यादा एन-95 मास्क हर रोज बन रहे हैं। जबकि पहले हम दूसरे देशों से मंगा रहे थे। पहले भारत वेंटिलेटर के लिए भी दूसरे देशों पर निर्भर था। लेकिन आज हमलोग एक साल में तीन लाख वेंटिलेटर्स बना सकते हैं। सभी के सामूहिक प्रयासों की वजह से लोगों का जीवन भी बच रहा है साथ ही आयात करने वाले चीजों का निर्यात कर पा रहे हैं।

लैब उद्घाटन के दौरान केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्द्धन और स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे के साथ-साथ तीनों राज्यों के मुख्यमंत्री- यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी भी मौजूद थे।
पीएम नरेंद्र मोदी ने भी रविवार को मन की बात कार्यक्रम में कहा था कि कोरोना वायरस का खतरा टला नहीं है और अभी भी वह उतना ही घातक है जितना शुरुआत के दिनों में था। ऐसे में कोरोना टेस्टिंग के नए लैब आने के बाद ज्यादा से ज्यादा लोगों की जांच हो पाएगी।

</>

No comments:

Post a Comment