Friday, July 31, 2020

भारत और मॉरिशस की विशेष मित्रता दोनों देशों के बीच घनिष्ठ सांस्कृतिक संबंधों पर आधारित है: प्रधानमंत्री मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा है कि अपने सहयोगी देशों के साथ भारत के संबंध आपसी विकास और विश्‍वास के सिद्धांतों पर आधारित हैं। उन्‍होंने कहा कि भारत किसी आर्थिक लाभ को ध्‍यान में रखकर किसी देश के साथ संबंध नहीं बनाता। श्री मोदी ने आज मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविन्‍द जुगनॉथ के साथ पोर्ट लुइस में वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से मॉरीशस के सुप्रीम कोर्ट के नये भवन के संयुक्‍त रूप से उद्घाटन के अवसर पर बोल रहे थे। इस मौके पर दोनों देशों की न्‍यायपालिकाओं के वरिष्‍ठ सदस्‍य और अन्‍य गण्‍यमान्‍य व्यक्ति भी उपस्थित थे।

प्रधानमंत्री मोदी ने इस अवसर पर कोविड-19 से कारगर तरीके से निपटने और इस द्वीप देश में महामारी पर नियंत्रण के प्रयासों के लिए वहां के निवासियों और सरकार को शुभकामनाएं दीं।

प्रधानमंत्री मोदी ने मॉरीशस के साथ भारत की विशेष मित्रता का उल्लेख करते हुए कहा कि इसकी जड़ें हमारे सांस्‍कृतिक संबंधों के रूप में बहुत गहरे समाई हुई हैं। उद्घाटन समारोह के अवसर पर अपने भाषण में प्रधानमंत्री मोदी ने समूचे क्षेत्र की सुरक्षा और विकास की अवधारणा पर भारत की आस्‍था का भी उल्‍लेख किया जिसे ‘सागर’ के नाम से भी जाना जाता है।

प्रधानमंत्री मोदी ने 2015 में ‘सागर’ की परि‍कल्‍पना की थी। उन्‍होंने कहा कि विकास के बारे में भारत के लक्ष्‍य मानव केन्द्रित हैं और वह अपने सभी साथी देशों को विकास के मार्ग पर आगे ले जाने के लिए प्रयत्‍नशील है। उन्‍होंने इस बात पर जोर दिया कि दूसरे देशों के साथ भारत के संबंधों के पीछे कोई आर्थिक बाध्‍यताएं नहीं हैं, बल्कि ये आपसी विकास और सम्‍मान की भावना पर आधारित हैं। उन्‍होंने कहा कि भारत ने कई देशों को बुनियादी ढांचे संबंधी आवश्‍यक परियोजनाओं को पूरा करने में मदद दी है और इनमें अफगानिस्‍तान में संसद भवन और नायजर में महात्‍मा गांधी सम्‍मेलन केन्‍द्र का निर्माण, श्रीलंका के सभी आठ प्रांतों में एम्‍बुलेंस सेवा तथा नेपाल में आपात चिकित्‍सा सेवा की शुरुआत शामिल हैं। मॉरीशस में भारत की सहायता से बनी सुप्रीम कोर्ट की इमारत सहित हाल में शुरू की गयी मेट्रो रेल और अत्‍याधुनिक अस्‍पताल परियोजना का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने विश्वास व्‍यक्‍त किया कि ऐसी परियोजनाओं से आने वाले समय में भारत और मॉरीशस के बीच सहयोग और सुदृढ़ होगा।

मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविन्‍द जुगनॉथ ने सुप्रीम कोर्ट के नवनिर्मित भवन के उद्घाटन के बाद कहा कि भारत ने मारीशस के विकास संबंधी लक्ष्‍यों को प्राप्‍त करने में हमेशा मदद की है। उन्‍होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्‍व में भारत-मॉरीशस संबंधों में और मजबूती आयी है और ये नये स्‍तर पर पहुंचे हैं। उन्‍होंने कहा कि मॉरीशस अपने यहां विकास परियोजनाओं को पूरा करने में प्रधानमंत्री मोदी की सहायता के लिए आभारी है। उन्‍होंने इस अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी के सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास के संकल्‍प का भी जिक्र किया।

मॉरीशस के उच्‍चतम न्‍यायालय का नया भवन भारत की ओर से तीन करोड अमरीकी डालर की सहायता से बनाया गया है। यह मॉरीशस में भारत के सामाजिक-आर्थिक पैकेज के तहत चलाई जा रही पांच परियोजनाओं में से एक है।

आप इस बार के चुनाव में किसे वोट देंगे &#8211 अभी वोट करें

No comments:

Post a Comment