Thursday, August 13, 2020

लखनऊ में कोरोना का कहर, 24 घंटे में कोविड-19 के 831 नए मामले!..

आज एक बार फिर मै खान पान से जुडी कुछ जरुरी बातों के साथ ये नयी पोस्ट लेकर आया हूँ, इस पोस्ट को आखिरी तक पढ़ते रहे ..

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में कोरोना ने कहर बरपाया है. यहां पिछले 24 घंटे में कोविड-19 के कुल 831 नए मामले मिले हैं, जो कोरोना वायरस पॉजिटिव केस का अबतक का सबसे बड़ा आंकड़ा है. इस तरह से अब लखनऊ में कुल कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा अब 14,000 पार कर गया है. चिकित्सकों ने इस बारे में चिन्ता जाहिर की है और कहा है कि अगर तत्काल आवश्कयक कदम नहीं उठाए गए तो राज्य की राजधानी जल्द ही एक दिन में 1,000 अंक का आंकड़ा पार कर सकती है.

कोरोना संक्रमण के प्रसार की शुरूआत 11 मार्च से हुई थी जिसके बाद अबतक लखनऊ में 14,221 कोरोना मरीज मिले हैं, जिनमें से 42 प्रतिशत (6,043 मामले) मात्र अगस्त में दर्ज किए गए हैं.
वहीं जिले में कोरोना वायरस से संक्रमित लगभग 7,317 मरीज अबतक ठीक हो चुके हैं, लेकिन चूंकि ट्रांसमिशन दर रिकवरी रेट से अधिक है, इसलिए सक्रिय रोगियों की संख्या अभी तक 6,743 है। हालांकि एसिम्पटोमेटिक मरीजों को होम आइसोलेशन की सलाह दी गई है, क्योंकि एक्टिव मरीजों की संख्या बढ़ने से अस्पतालों पर दबाव अधिक है.

पिता रणधीर कपूर ने करीना के मां बनने को ले कर किया खुलासा, कही ये बात..

SGPGI के वरिष्ठ वायरोलॉजिस्ट और पूर्व प्रोफेसर T N ढोले ने कहा है कि मानसून के कारण वातावरण में नमी होने से भी वायरस का प्रसार अधिक हो रहा है। उन्होंने कहा, &#8216ये वृद्धि जारी रहेगी और हम अगस्त के अंत तक रोजाना 1,000 से अधिक मामले मिल सकते हैं. उन्होंने ये भी कहा कि कोरोना के प्रसारण की दर अक्टूबर में बढ़ जाएगी.&#8217

विशेषज्ञों ने कोरोना के संक्रमण के बढ़ने के पीछे तीन मुख्य कारणों का हवाला दिया है- जिसमें पहला बरसात का मौसम, दूसरा सुरक्षा प्रोटोकॉल की लापरवाही और तीसरा है संपर्क ट्रेस में होनेवाली देर. हालांकि, मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद सिंह ने संपर्क ट्रेसिंग में ढिलाई से इनकार किया है. उन्होंने कहा, &#8216अधिक मामलों का पता लगाया जा रहा है क्योंकि हमने अपनी परीक्षण क्षमता को बढ़ाकर 5,000 प्रतिदिन कर दिया है जो जुलाई की तुलना में दोगुना है।&#8217

किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिट, मेडिसिन हेड और कोविड यूनिट के प्रभारी, प्रो वीरेंद्र आतम ने कहा, &#8216मैं प्रतिदिन शहर के भीड़-भाड़ वाले बाजारों में लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर लापरवाह और बगैर मास्क लगाए देखता हूं. हाथ की स्वच्छता की भी उपेक्षा की जा रही है, जो वायरस के प्रसार को बढ़ा रही है.&#8217

</>

No comments:

Post a Comment