Monday, September 21, 2020

झील को छूने भर से ही लोग बन जातें हैं पत्थर, वजह जान उड़ जाएंगे होश.!..

आज एक बार फिर मै खान पान से जुडी कुछ जरुरी बातों के साथ ये नयी पोस्ट लेकर आया हूँ, इस पोस्ट को आखिरी तक पढ़ते रहे ..

उत्तरी तंजानिया: अपने हमेशा से एक कहावत सुनी होगी की &#8216पारस का पत्थर जो कोई छू ले सोना बन जाता है&#8217। इस कहवात में कितनी सत्यता हैं ये तो नहीं पता लेकिन एक झील ऐसी जरूर है जिसे छूने पर हर चीज पत्थर बन जाती है। जी हां, उत्तरी तंजानिया में कही दूर &#8216नेट्रान लेक&#8217 नाम की एक ऐसी झील है जिसे छूने पर हर चीज पत्थर बन जाती है।

खबरों के अनुसार, फोटोग्राफर निक ब्रांड्ट जब उत्तरी तंजानिया की नेट्रान लेक की तटरेखा पर पहुंचे तो वहां के दृश्य ने उन्हें चौंका दिया। झील के किनारे जगह-जगह पशु-पक्षियों के स्टैच्यू नजर आए। वे स्टैच्यू असली मृत पक्षियों के थे। दरअसल झील के पानी में जाने वाले पशु-पक्षी कुछ ही देर में कैल्सिफाइड होकर पत्थर बन जाते हैं।

ब्रांड्ट ने अपनी नई फोटो बुक में लिखा था, &#8216कोई भी निश्चित रूप से नहीं जानता है की ये कैसे मरे पर लगता है कि लेक की अत्यधिक रिफ्लेक्टिव नेचर ने उन्हें दिग्भ्रमित किया फलस्वरूप वे सब पानी में गिर गए। वो लिखते है &#8216पानी में नमक और सोडा की मात्रा बहुत ज्यादा है, इतनी ज्यादा कि इसने मेरी कोडक फिल्म बॉक्स की स्याही को कुछ ही सेकंड में जमा दिया।

पानी में सोडा और नमक की ज्यादा मात्रा इन पक्षियों के मृत शरीर को सुरक्षित रखती है। झील के इस पानी में अल्कलाइन का स्तर पीएच9 से पीएच 10.5 है, यानी अमोनिया जितना अल्कलाइन। लेक का तापमान भी 60 डिग्री तक पहुंच जाता है। पानी में वह तत्व भी पाया गया जो ज्वालामुखी की राख में होता है। इस तत्व का प्रयोग मिस्रवासी ममियों को सुरक्षित करने के लिए रखते थे।

</>

No comments:

Post a Comment