Tuesday, September 22, 2020

धरने पर बैठे निलंबित सांसद, राष्ट्रपति से मिलने के लिए मांगा समय!..

आज एक बार फिर मै खान पान से जुडी कुछ जरुरी बातों के साथ ये नयी पोस्ट लेकर आया हूँ, इस पोस्ट को आखिरी तक पढ़ते रहे ..

नई दिल्ली। कृषि विधेयक के विरोध में रविवार को राज्यसभा उपसभापति हरिवंश नारायण सिंह के साथ किए दुर्व्यवहार का मुद्दा राज्यसभा में उठा, सभापति एम वेंकैया नायडू ने विपक्ष के दुर्व्यवहार पर कहा कि कल राज्य राज्यसभा के लिए बुरा दिन था। उपराष्ट्रपति और अध्यक्ष वैंकया नायडू कड़ा कदम उठाते हुए हंगामा करने वाले आठ सांसदों को एक हफ्ते के लिए निलंबित कर दिया है।

हालांकि मनाही के बावजूद निलंबित सदस्य सदन की कार्यवाही में लगातार हिस्सा लेते रहे। जिसके कारण राज्यसभा की कार्यवाही सुचारू रूप से नहीं चल सकी और इसे मंगलवार सुबह तक के लिए स्थगित करना पड़ा। निलंबन के विरोध में सभी संसद परिसर में बैठ कर धरना देना शुरू कर दिया है।

राज्यसभा अध्यक्ष द्वारा निलंबित किए सांसदों मेंतृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओ&#8217ब्रायन और डोला सेन, AAP संजय सिंह, INC राजीव सातव, रिपुन बोरा और सैयद नासिर हुसैन, CPI (M) के.के.रागेश और एलामरम करीम हैं।

भाजपा ने निलंबित सांसदों के सदन में मौजूद रहने को गुंडागर्दी करार दिया। वहीं ममता बनर्जी ने कहा कि हम घुटने नहीं टेकेंगे। संसद में पारित हो चुके कृषि संबंधी विधेयकों को लेकर विपक्ष का विरोध लगातार जारी है। विधेयकों को सहमति नहीं देने की मांग को लेकर 12 विपक्षी दल राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलेंगे।

12 दलों ने राष्ट्रपति से मिलने का समय मांगा

कांग्रेस सांसद शक्तिसिन्ह गोहिल ने कहा कि कल मतदान के बिना राज्यसभा द्वारा पारित कृषि विधेयकों के मामले में 12 दलों ने राष्ट्रपति से मिलने का समय मांगा है। पार्टियों ने राष्ट्रपति से अनुरोध किया है कि वे विधेयकों को मंजूरी न दें।&#8217

ये सांसद दे रहे हैं धरना

</>

No comments:

Post a Comment