Thursday, September 10, 2020

असोल चन्नी: फेक न्यूज़ पर अंकुश लगाने के लिए बांग्लादेश अभियान

असोल चन्नी: फेक न्यूज़ पर अंकुश लगाने के लिए बांग्लादेश अभियान सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर जंगल में आग की तरह फैलने वाली अफवाहों और नकली समाचारों की जानकारी रखने के लिए, बांग्लादेश सरकार ने एक विशेष अभियान शुरू किया है, जिसका नाम “असोल चीनी” है जब अंग्रेजी में इसका अनुवाद “रियल शुगर” कहा जाता है।

अभियान के बारे में

राज्य मंत्री ने अभियान को संबोधित करते हुए कहा कि, साक्षरता की दर में काफी वृद्धि हुई है, लेकिन डिजिटल साक्षरता अभी भी बड़े पैमाने पर कम है। मंत्री ने देश के युवाओं पर जोर दिया जो युवा पीढ़ी का प्रतिनिधित्व करते हैं और देश में सोशल मीडिया उपयोगकर्ता का भी 90 प्रतिशत है। वे स्थानीय समूहों और अपने इलाके के बड़े लोगों को भी शिक्षित कर सकते हैं।

ऐसे अभियान की जरूरत

आज आधुनिक दुनिया में जब हर जानकारी चौबीसों घंटे उपलब्ध रहती है, तो दुनिया भर में कई तरह की गलत गतिविधियाँ हो रही हैं। लोग इस मामले को बदलने और नकारात्मक समाचार और फर्जी सूचना फैलाने के लिए कहते हैं। इस तरह की फर्जी सूचनाओं पर अंकुश लगाने के लिए, विशेष अभियानों की अत्यधिक आवश्यकता है जो जन को शिक्षित कर सकते हैं और शीघ्र निदान में मदद कर सकते हैं और इन अफवाहों को रोक सकते हैं।

सम्बंधित जानकारी

अभियान को संबोधित करते हुए मंत्री ने दरबार नामक एक डिजिटल मंच के बारे में भी बताया। दरबार को प्रत्येक संघ, जिलों और वार्डों से दो राजदूतों के नाम दर्ज करने के लिए विकसित किया गया है। ये राजदूत लोगों के बीच जागरूकता पैदा करने और इस तरह की शरारती गतिविधियों से जुड़े खतरे के लिए जिम्मेदार होंगे। मंत्री ने तुबा और माहिर को दो लैपटॉप भी प्रदान किए मारे गए तसलीमा बेगम रेनू की बेटी, जो पिछले साल अफवाह के कारण निर्दयता से पीट-पीटकर मार दी गई थी।

तो दोस्तों यहा इस पृष्ठ पर असोल चन्नी: फेक न्यूज़ पर अंकुश लगाने के लिए बांग्लादेश अभियान के बारे में बताया गया है अगर ये आपको पसंद आया हो तो इस पोस्ट को अपने friends के साथ social media में share जरूर करे। ताकि वे इस बारे में जान सके। और नवीनतम अपडेट के लिए हमारे साथ बने रहे।

असोल चन्नी: फेक न्यूज़ पर अंकुश लगाने के लिए बांग्लादेश अभियान Parinaam Dekho.

No comments:

Post a Comment