Wednesday, September 2, 2020

देखें, कल इन राज्यों में भारी बारिश की चेतावनी, बाहर निकलने से पहले रहे सतर्क..

आज एक बार फिर मै कुछ टेक्नोलॉजी से जुडी नयी पोस्ट की अपडेट लेकर आया हूँ, इस पोस्ट को अंत तक पढ़ते रहे ..

भारत के कई राज्य आज बारिश और बाढ़ की चपेट में आ गये हैं। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक रायलसीमा (आंध्र प्रदेश), कर्नाटक, तमिलनाडु, पुडुचेरी, केरल, पंजाब, पूर्वी राजस्थान, बिहार, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, असम, मेघालय, अरुणाचल प्रदेश, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा के दूर-दराज के इलाकों में तेज हवाएं चलने के साथ भारी बारिश हो सकती है। जिसके बाद लोगों को सुरक्षित स्थानों पर जाने की सलाह दी जा रही है।

मछुआरों को इन क्षेत्रों से दूर रहने को कहा गया है। सितंबर के महीने में भी बाढ़ के कोहराम से आधे भारत में तबाही ही तबाही दिख रही है। इस बीच मौसम विभाग (आईएमडी) ने उत्तर और दक्षिण भारत के साथ ही पूर्वोत्तर के कई हिस्सों में अगले 2 दिन के लिए भारी बारिश का पूर्वानुमान जताया है।
विभाग के मुताबिक पश्चिमी राजस्थान के दूर-दराज के इलाकों में मंगलवार को भारी से बहुत भारी बारिश होने का अनुमान है।

यूपी के कई इलाके बारिश और बाढ़ से बुरी तरह से प्रभावित हैं। बाराबंकी में सरयू नदी की लहरें लगातार जमीन को निगलती जा रही हैं। कटान की वजह से तराई के कई गांवों में डर का माहौल है। नदी कई घरों को तबाह कर जा चुकी है। डर के मारे नदी किनारे बसे गांवों के लोग घर खाली कर सुरक्षित स्थानों की ओर जा रहे हैं।

धवार को भी पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, राजस्थान और उत्तर प्रदेश में भी भारी बारिश का पूर्वानुमान है। विभाग ने छत्तीसगढ़, बिहार, झारखंड, अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह, असम, मेघालय, ओडिशा, दक्षिण सुदूरवर्ती कर्नाटक, तमिलनाडु, पुदुचेरी, कराईकल, केरल और माहे क्षेत्र में भारी से बहुत भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है।

मौसम विभाग के मुताबिक, इसी दिन जम्मू-कश्मीर के दूरदराज के क्षेत्रों, लद्दाख, मुजफ्फराबाद, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, ओडिशा, तटीय आंध्र प्रदेश, तटीय कर्नाटक और लक्षद्वीप के लिए भी भारी बारिश का पूर्वानुमान जताया है।

मालूम हो कि महाराष्ट्र के चंद्रपुर में गोसीखुर्द बांध के अंदर उसकी क्षमता से अधिक पानी भर चुका है। इसलिए बांध से पानी छोड़ना पड़ा है। इसकी वजह से जिले के 9 गांव टापू बन गए हैं।

लोगों ने छतों पर शरण ली है। बाढ़ में हजारों हेक्टेयर फसल को भारी नुकसान पहुंचा है। बाढ़ में फंसे लोगों को बचाने के लिए एनडीआरएफ तैनात की गई है।

महाराष्ट्र के भंडारा और गोंदिया जिले में बाढ़ ने तबाही मचा दी है। वैनगंगा नदी उफान पर है और बाढ़ की वजह से भंडारा जिले के करीब 30 गांव जबकि गोंदिया के 58 गांव टापू बन गए हैं।

मूसलाधार बारिश और बाढ़ में कई मकान जमीदोज हो गए हैं। मुंबई कोलकाता नेशनल हाईवे और नागपुर हाईवे को बंद करना पड़ा है। महाराष्ट्र सरकार ने मध्य प्रदेश पर बिना चेतावनी दिए संजय सरोवर से लाखों क्यूसेक पानी छोड़ने का आरोप लगाया है।

उधर मध्य प्रदेश में हो रही तेज बारिश की वजह से गुजरात में बाढ़ आ गई है। नर्मदा नदी में उफान की वजह से गुजरात में सरदार सरोवर बांध के 23 गेट खोल दिए हैं और 10 लाख क्यूसेक पानी नदी में छोड़ा जा रहा है। इसकी वजह से भरूच जिले में बाढ़ के हालात बिगड़ रहे हैं। नर्मदा नदी का जलस्तर बढ़ने से वड़ोदरा के कई गांवों में बाढ़ की स्थिति बन गई है।

मध्य प्रदेश में भारी बारिश और बाढ़ से राज्य के 14 जिलों में अब तक 7 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में फसलों को नुकसान होने के बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने किसानों को आश्वासन दिया है कि सरकार उनके नुकसान की भरपाई के हरसंभव उपाय करेगी।

</>

No comments:

Post a Comment