Wednesday, September 23, 2020

जानिए क्यों शिवलिंग पर चढ़ाया जाता है दूध?

भगवान शिव को दूध चढ़ाना एक पुण्य का काम माना जाता है। शिवलिंग का जलाभिषेक करने के साथ ही दूध से अभिषेक करने की परम्परा का देश भर में पूरी आस्था से पालन किया जाता है।

क्या है इसके पीछे की कथा?

दरअसल,  शिवलिंग पर दूध चढ़ाने का रहस्य सागर मंथन से जुड़ा है।  कथा के समुद्र मंथन से सबसे पहले जल का हलाहल विष निकला। उस विष की ज्वाला से सभी देवता तथा दैत्य जलने लगे और उनकी कान्ति फीकी पड़ने लगी। इस पर सभी ने मिलकर भगवान शंकर से प्रार्थना की। उनकी प्रार्थना पर महादेव ने उस विष को हथेली पर रखा और उसे पी लिया। किन्तु उसे कण्ठ से नीचे नहीं उतरने दिया। उस कालकूट विष के प्रभाव से शिव जी का कण्ठ नीला पड़ गया। इसीलिए महादेव जी को नीलकण्ठ कहते हैं।

कहते हैं इस विष का प्रभाव भगवान शिव और उनकी जटा में बैठी  देवी गंगा पर भी पड़ने लगा। यह देखते हुए देवी-देवताओं ने भगवान शिव से से दूध ग्रहण करने का आग्रह किया। शिव ने जैसे ही दूध ग्रहण किया, उनके शरीर में विष का असर कम होने लगा।  बस तभी शिवलिंग पर दूध चढ़ाने की परंपरा शुरू हुई।

मान्यता है कि शिवलिंग के दूध से रुद्राभिषेक करने से आपकी सभी इच्छाओं  की पूर्ति होती है।  शिव की पूजा-अर्चना के बाद दूध का दान करना भी बेहद शुभ माना गया है।

इन राशियों के लोग होते हैं पैसा बचाने में सबसे माहिर!

Jivitputrika Vrat 2020: इस विधि से करें जितिया की पूजा, पूर्ण होंगी मनोकामनाएं

कोरोना वायरस लेटेस्ट अपडेट जानने के लिए WhatsApp ग्रुप को ज्वाइन करें। Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। साथ ही फोन पर खबरे पढ़ने व देखने के लिए Play Store पर हमारा एप्प Spasht Awaz डाउनलोड करें।

जानिए क्यों शिवलिंग पर चढ़ाया जाता है दूध? Spasht Awaz.

आप इस बार के चुनाव में किसे वोट देंगे &#8211 अभी वोट करें

No comments:

Post a Comment