Thursday, September 10, 2020

राहुल का पीएम मोदी पर निशाना कहा 'लॉकडाउन असंगठित वर्ग के लिए मृत्युदंड जैसा साबित हुआ'!..

आज एक बार फिर मै खान पान से जुडी कुछ जरुरी बातों के साथ ये नयी पोस्ट लेकर आया हूँ, इस पोस्ट को आखिरी तक पढ़ते रहे ..

नई दिल्ली। कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर साधा निशाना साधा है। राहुल गांधी ने बुधवार को एक वीडियो जारी करते हुए दावा किया है कि कोरोना संकट के कारण देश में लेगे अचानक लॉकडाउन से देश के युवाओं के भविष्य, गरीबों और असंगठित अर्थव्यवस्था पर आक्रमण था।

राहुल गांधी ने वीडियो जारी करते हुए कहा कि इस आक्रमण के खिलाफ लोगों विरोध करनाा चाहिए। राहुल ने ट्वीट करते हुए आरोप लगाया है कि यह लॉकडाउन देश के असंगठित वर्ग के लिए मृत्युदंड साबित हुआ। राहुल गांधी ने वीडियो में कहा कि &#8216कोरोना के नाम पर जो किया गया वो असंगठित क्षेत्र पर तीसरा आक्रमण था।
गरीब लोग, छोटे एवं मध्यम कारोबारी रोज कमाते हैं और रोज खाते हैं। लेकिन आपने बिना किसी नोटिस के लॉकडाउन किया, आपने इनके ऊपर आक्रमण किया।&#8217

अचानक किया गया लॉकडाउन असंगठित वर्ग के लिए मृत्युदंड जैसा साबित हुआ।

वादा था 21 दिन में कोरोना ख़त्म करने का, लेकिन ख़त्म किए करोड़ों रोज़गार और छोटे उद्योग।

मोदी जी का जनविरोधी &#8216डिज़ास्टर प्लान&#8217 जानने के लिए ये वीडियो देखें। pic.twitter.com/VWJQ3xAqmG

Rahul Gandhi (@RahulGandhi) September 9, 2020

राहुल गांधी ने दावा किया प्रधानमंत्री जी ने कहा था कि यह लड़ाई 21 दिन की होगी। असंगठित क्षेत्र के रीड़ की हड्डी 21 दिन में ही टूट गई।&#8217 उनके मुताबिक, &#8216जब लॉकडाउन के खुलने का समय आया, तो कांग्रेस पार्टी ने एक बार नहीं अनेक बार सरकार से कहा कि गरीबों की मदद करनी ही पड़ेगी, &#8216न्याय&#8217 योजना जैसी एक योजना लागू करनी पड़ेगी, बैंक खातों में सीधा पैसा डालना पड़ेगा। लेकिन सरकार ने यह नहीं किया।&#8217

आरोप लगाते हुए पूर्व अध्यक्ष ने कहा, &#8216हमने कहा कि लघु एवं मध्यम स्तर के कारोबारों के लिए आप एक पैकज तैयार कीजिए, उनको बचाने की जरूरत है। सरकार ने कुछ नहीं किया, उल्टा सरकार ने सबसे अमीर 15-20 लोगों का लाखों करोड़ों रुपये का कर माफ कर दिया।&#8217 राहुल ने दावा किया कि लॉकडाउन कोरोना पर आक्रमण नहीं था, बल्कि यह हिंदुस्तान के गरीबों, युवाओं के भविष्य, मजदूर किसान और छोटे व्यापारियों तथा असंगठित अर्थव्यवस्था पर आक्रमण था।

</>

No comments:

Post a Comment