Monday, October 19, 2020

पूर्व सीएम कमलनाथ के बयान पर मध्यप्रदेश में घमासान, ​मौन धरने पर बैठे सीएम शिवराज और ज्योतिरादित्य सिंधिया!..

आज एक बार फिर मै खान पान से जुडी कुछ जरुरी बातों के साथ ये नयी पोस्ट लेकर आया हूँ, इस पोस्ट को आखिरी तक पढ़ते रहे ..

इंदौर। मध्यप्रदेश में होने वाले उपचुनाव को लेकर कांग्रेस और भाजपा के बीच लड़ाई तेज हो गयी है। पूर्व सीएम और कांग्रेस नेता कमलनाथ ने एक जनसभा को संबोधित करते हुए भाजपा की महिला प्रत्याशी इमरती देवी को &#8216आइटम&#8217 कह दिया था। इसको लेकर वहां की सियासत गर्म हो गयी है। दोनों पार्टियों के नेता एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगा रहे हैं।

पढ़ें :- मध्यप्रदेश उपचुनाव: खुद को किंगमेकर की भूमिका में देख रही BSP, कहा-सरकार बनाने में रहेगी भूमिका

कमलनाथ के इसी बयान के विरोध में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज मौन धरने पर बैठ गए हैं।
ये धरना करीब दो घंटे तक चलेगा। मुख्यमंत्री के अलावा इंदौर में ज्योतिरादित्य सिंधिया धरने पर बैठे हैं। वहीं भाजपा के अन्य नेता अलग-अलग हिस्सों में मौन प्रदर्शन कर रहे हैं। धरने पर बैठने से पहले शिवराज चौहान ने कांग्रेस पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि इस तरह के बयानों को बिलकुल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा, देश में मां, बहन और बेटियों का सम्मान रखा जाएगा, हम महिलाओं का अपमान बर्दाश्त नहीं करेंगे।

वहीं, राज्यसभा के सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि ऐसे बयान महिलाओं और अनुसूचित जाति के खिलाफ कांग्रेस नेताओं की सोच दर्शाते हैं। सिंधिया ने इंदौर शहर से करीब 30 किलोमीटर दूर कंपेल कस्बे में एक चुनावी सभा में कहा, &#8216दलित समाज की नेता और सरपंच पद से शुरूआत कर अपनी अथक मेहनत से मंत्री बनीं इमरती देवी के लिए कमलनाथ कहते हैं कि वह आइटम हैं।

(कांग्रेस नेता) अजय सिंह कहते हैं कि वह जलेबी हैं। महिलाओं और अनुसूचित जाति के विरुद्ध इनकी (कांग्रेस नेताओं) यही सोच और विचारधारा है, जबकि हमारे शास्त्रों में बताया गया है कि जहां नारियों का मान-सम्मान होता है, देवता वहीं विराजते हैं।&#8217

पढ़ें :- बसपा ने जारी की 10 प्रत्याशियों की दूसरी सूची, जानिए कौन कहां से लड़ेगा चुनाव

</>

No comments:

Post a Comment