Sunday, October 18, 2020

अगर आप भी खुलवाने जा रहे है बैंक में सेविंग अकाउंट, तो पढ़ ले ये खबर !

अगर आप बैंक में सेविंग अकाउंट (Saving account) खोलने के बारे में सोच रहे हैं तो आज हम आपको कुछ ऐसी बातें बताएँगे जिनका जानना बेहद ज़रूरी है। आप सभी जानते ही होंगे कि सेविंग अकाउंट में मिनिमम बैलेंस रखना ज़रूरी होता है। वहीँ शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में मिनिमम बैलेंस का अंतर होता है। तो चलिए जानते है कुछ ऐसे ऑप्शंस , जिनसे आपको मिनिमम बैलेंस की झंझट से राहत मिले।

अगर आप एक सामान्य सेविंग अकाउंट खुलवाते हैं, तो आपको मिनिमम बैंलेस रखना पड़ेगा। यह सीमा 2000 रुपये से लेकर 10,000 तक हो सकती है। अगर इस खाते में आप मिनिमम बैलेंस को मेंटेन नहीं कर पाता, तो बैंक आपके ऊपर जुर्माना लगा देता है।

जीरो बैलेंस खाते पर ऐसा कोई नियम लागू नहीं होता। जीरो बैलेंस सेविंग्स अकांउट (बीएसबीडी) को बेसिक सेविंग्स बैंक डिपोजिट अकाउंट (बीएसबीडीए) कहा जाता है। इसमें मिनिमम बैलेंस का कोई झंझट नहीं रहता।

हालांकि इस तरह खाते की कुछ लिमिटेशन भी होती हैं। इस तरह के खाते से सामान्य खाते की तुलना में लेन-देन की सीमा काफी कम होती है। ऐसे में अगर आप बड़ी रकम का लेन-देन करने के लिए खाता खुलवाने जा रहे हैं, तो इस तरह का खाता आपके लिए फायदेमंद नहीं होगा।

वहीँ कुछ बैंकों में जीरो बैलेंस वाले खाताधारकों को पासबुक, चेकबुक, डेबिट कार्ड की सुविधाएं फ्री दी जाती हैं। हालांकि हर बैंक के अपने कुछ अलग नियम होते हैं। कुछ बैंकों में आपको अनलिमिटेड फ्री एटीएम के ट्रांजेक्शन का फायदा मिलता है। साथ ही नेटबैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग की सेवाएं भी मुफ्त में दी जाती हैं।

हरदोई: सपा प्रबुद्ध सभा प्रदेश अध्यक्ष डॉ मनोज पांडे ने प्रबुद्धजनों को किया संबोधित !

पीएम मोदी ने दुनिया की सबसे बड़ी सुरंग ‘अटल टनल’ का किया उद्घाटन

कोरोना वायरस लेटेस्ट अपडेट जानने के लिए WhatsApp ग्रुप को ज्वाइन करें। Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। साथ ही फोन पर खबरे पढ़ने व देखने के लिए Play Store पर हमारा एप्प Spasht Awaz डाउनलोड करें।

अगर आप भी खुलवाने जा रहे है बैंक में सेविंग अकाउंट, तो पढ़ ले ये खबर ! Spasht Awaz.

आप इस बार के चुनाव में किसे वोट देंगे &#8211 अभी वोट करें

No comments:

Post a Comment