Saturday, October 24, 2020

CBSE ने डिजिटल दस्तावेज़ों तक पहुँचने के लिए फेशियल रिकॉग्निशन सिस्टम’ शुरू की 

CBSE ने डिजिटल दस्तावेज़ों तक पहुँचने के लिए फेशियल रिकॉग्निशन सिस्टम’ शुरू की केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने डिजिटल दस्तावेजों तक पहुँचने के लिए Rec फेशियल रिकॉग्निशन सिस्टम ’की शुरुआत की है। यह प्रणाली 10 वीं और 12 वीं कक्षाओं के लिए शुरू की गई है। छात्रों के लिए चीजों को आसान बनाने के लिए कोविद -19 स्थिति के बीच इस प्रणाली को शुरू किया गया है।

फेशियल रिकॉग्निशन सिस्टम के बारे में

यह एक कंप्यूटर आधारित अनुप्रयोग है जो उपयोगकर्ता को 10वीं और 12वीं कक्षा के छात्रों के लिए स्कोरकार्ड, पासिंग सर्टिफिकेट, माइग्रेशन प्रमाणपत्र और अन्य महत्वपूर्ण दस्तावेज डाउनलोड करने की अनुमति देगा। आवेदन चेहरे की पहचान विधि पर आधारित है। ऐप छात्र के चेहरे को स्कैन करता है और बोर्ड के रिपॉजिटरी में छवियों के साथ मेल खाता है। यह 99% सही परिणाम देने वाले व्यक्ति की चेहरे की विशेषताओं को पहचानता है।

सिस्टम कैसे काम करता है?

सिस्टम डेटाबेस में संग्रहीत छवि के साथ छात्रों की चेहरे की विशेषताओं से मेल खाता है। उसके बाद, आवश्यक दस्तावेज छात्र के पंजीकृत ई-मेल आईडी पर भेजे जाते हैं। अपने दस्तावेज़ों को प्राप्त करने के लिए छात्रों को वेबसाइट “digilocker.gov.in” पर “परनिअम मंजुशा” और डिजी लॉकर पर आवेदन भरना आवश्यक है। सिस्टम का मोबाइल संस्करण भी है, इसलिए छात्र अपने दस्तावेजों को अपने मोबाइल पर भी आसानी से एक्सेस कर सकते हैं।

चुनौतियां

हालांकि इस प्रणाली से छात्रों को मदद मिलेगी और उन्हें अपने दस्तावेजों तक आसानी से प्रवेश करके किसी भी अन्य संस्थानों के साथ दाखिला लेने में ज्यादा कठिनाई का सामना नहीं करना पड़ेगा। हालांकि, सिस्टम पर अपलोड किए जा रहे डेटा के गलत विवरण और बेमेल की चुनौती होगी। यह उपयोगकर्ताओं को बाद में परेशान कर सकता है।

तो दोस्तों यहा इस पृष्ठ पर CBSE ने डिजिटल दस्तावेज़ों तक पहुँचने के लिए फेशियल रिकॉग्निशन सिस्टम’ शुरू की के बारे में बताया गया है अगर ये आपको पसंद आया हो तो इस पोस्ट को अपने friends के साथ social media में share जरूर करे। ताकि वे इस बारे में जान सके। और नवीनतम अपडेट के लिए हमारे साथ बने रहे।

CBSE ने डिजिटल दस्तावेज़ों तक पहुँचने के लिए फेशियल रिकॉग्निशन सिस्टम’ शुरू की  Parinaam Dekho.

No comments:

Post a Comment