Sunday, October 25, 2020

CM नीतीश अपने रैली में खोया आपा, लोगों से कहा- अपने बाप से पूछो.

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के भाषण की शैली के उनकी विरोधी भी क़ायल रहे हैं, लेकिन इस बार के विधानसभा चुनाव में आयोजित कई सभाओं में देखा गया है कि नीतीश कुमार भाषण के दौरान जब कभी लालू-राबड़ी राज या तेजस्वी यादव के चुनावी वादे का जिक्र होता है तो उसके जवाब में सीएम अपना आपा खो बैठते हैं.

शनिवार को बेगुसराय ज़िले के तेघडा विधानसभा में अपने भाषण के दौरान सीएम नीतीश कुमार एक बार फिर भाषा की मर्यादा भूल गए.उन्होंने आरजेडी शासन काल का ज़िक्र करते हुए कहा, &#8216जब लोगों को मौक़ा मिला तो क्या किए, एक स्कूल बनाया था?&#8217

फिर उन्होंने तेजस्वी यादव का नाम लिए बिना कहा, &#8220अगर पढ़ना चाहते हो तो अपने बाप से पूछो अपनी माता से पूछो कि कहीं कोई स्कूल था, कहीं कोई स्कूल बन रहा था, कहीं कोई कॉलेज बन रहा था?
ज़रा पूछ लो.राज करने का मौक़ा मिला तो ग्रहण करते रहे और जब अंदर चले गए, तो पत्नी को बैठा दिया गद्दी पर.&#8221

नीतीश ने फिर कहा कि यही सब तो चल रहा रहा था, उसके बाद आज बता दो कहां कोई गड़बड़ है. उन्होंने कहा कि आज कोई गड़बड़ करने वाला आदमी होगा तो अंदर जाएगा. सीएम ने कहा कि आप लोगों के बीच कोई उल्टा-पुल्टा काम नहीं कर सकेगा.

हालांकि उन्होंने भाषण में पहले के आरजेडी शासन काल का ज़िक्र किया और कहा कि अपराध, फिरौती के लिए अपहरण चरम पर था. लेकिन अब इतना विकास हुआ हैं . ( Khabar Arena )

</>

No comments:

Post a Comment